नये जोड़े की पहली पसंद चंबा (chamba)

चंबा (chamba) – हनीमून मनाने के लिये जब कपल घुमने के स्थान की चर्चा होती है तो चंबा (chamba) का नाम भी ध्यान आ जाता है | यह जगह ऊँचे – ऊँचे पर्वतो से तो घिरा ही है साथ ही हरियाली से भी भरिपूर्ण है | झरने , झीले , जंगल आदि यहां के आकर्षण को और अधिक बढ़ाते है |

चंबा का सुंदर नजारा

आज से लघभग 1100 साल पहले यहां शासन कर रहे राजा साहिल वर्मा की पुत्री चंपा के नाम पर इस स्थान का नामकरण किया गया था | बाद में इस नाम को बदलकर चंबा (chamba) कहने जाने लगा |

समुद्र तल से 3000 फूट ऊँचा यह स्थल नदी के तट पर स्थित है | अपनी प्राचीन सभ्यता , संस्कृति और परम्पराओ के कारण प्रसीद्ध इस मनभावन शहर के लोगो की भाषा व पोशाक भी अलग दिखती है |

  • डलहोजी – 50 किलोमीटर
  • पठानकोट – 120 किलोमीटर
  • धर्मशाला – 180 किलोमीटर
  • जम्मू – 245 किलोमीटर
  • शिमला – 422 किलोमीटर
  • मनाली – 470 किलोमीटर
  • दिल्ली – 580 किलोमीटर
  • हरिद्वार – 610 किलोमीटर

चंबा (chamba) जाने का बेहतर समय-

चंबा में रुकने के लिये जगह

यहां घुमने के लिये सबसे अच्छा समय गर्मियों में अप्रैल से जून तक का होता है | और सितंबर से दिसम्बर का समय भी ठीक रहता है | पर तब अधिक ठंड पड़ने लगती है | जो कई पर्यटकों को बेहद पसंद आती है |

चंबा (chamba) में देखने के लिये प्रमुख स्थल-

बेहद सुंदर द्रश्य

तरह-तरह के मन्दिर –

चंबा शहर मन्दिरों की नगरी के रूप में भी जाना जाता है | यहां लघभग 75 मन्दिर है | यहां के लक्ष्मी नारायण मन्दिर समूह में कई भव्य मन्दिर है | राजा साहिल वर्मा ने सन्न 920 में इन मन्दिरों को बनवाना शुरू किया था | यह मन्दिर वाकई देखने के योग्य है |

चोगान –

चंबा कस्बे के बीचो बीच स्थित यह एक प्राकृतिक घास का मैदान है , जिसे पर दिल बाग–बाग हो जाता है | यह चंबा घाटी के लोगो का संगम स्थल भी है | यहां प्रतिवर्ष जुलाई महीने में  ‘मिंजर’ मेला लगता है | जिसे देखने के लिये लोग दूर दूर से आते है | कहा जाता है 50,000 से भी अधिक लोग इस मेले को देखने के लिये आते है | इस मेले में चंबा घाटी और आसपास के हस्तशिल्प की झांकी देखी जा सकती है |

भूरी सिंह संग्रहालय –

इस संग्रहालय में चंबा की चित्रकला और कांगड़ा शेली की चित्रकारियो के अतिरिक्त अनेक अमूल्य पांडुलिपिया , पुराने सिक्के , राजा महराजा के आभूषण , हथियार तथा अन्य ऐतिहासिक और पुरातात्विक महत्व की वस्तुए रखी गयी है | जो पर्यटकों को देखने में एक अलग ही अनुभव मिलता है | यह संग्रहालय सोमवार तथा रविवार को छोडकर शेष सभी दिन खुला रहता है |

सरोल –

यह चंबा के पास ही एक अत्यंत सुंदर भव्य बाग है | यहां का मनोरम द्रश्य को देखकर मन पुलकित हो उठता है | यहां पिकनिक मनाने के लिये भी काफी संख्या में लोग आते है |

रंग महल –

किले की तरह दिखने वाला  इस भव्य भवन में सुंदर बाग के अलावा अन्य चित्र भी है | जो देखने के योग्य है |

इन जगह पर भी घुमने जाये –

चंबा (chamba) पहुचने के साधन –

वायु-मार्ग, रेल–मार्ग, और सडक मार्ग तीनो से ही चंबा जाया जा सकता है |

सडक मार्ग –

दिल्ली ,अम्रतसर , लुधियाना , चंदीगढ़ , लखनऊ , बनारस , मसूरी , नैनीताल , आगरा , श्रीनगर , जम्मू ,शिमला , कुल्लू , मनाली , धर्मशाला , डलहोजी आदि से चंबा  के लिये बस सेवाएँ उपलब्ध है | वैसे , देश के सभी प्रमुख शहरो से चंबा सडक-मार्ग से जुड़ा हुआ है |

रेल-मार्ग –

चंबा तक सीधे रेलगाड़ी नहीं जाती |यहां का निकटम रेलवे स्टेशन पठानकोट है | जो यहां से 120 किलोमीटर की दूरी पर है | यह दूरी बस या टेक्सी से तय की जा सकती है | 

वायुमार्ग –

चंबा का निकटम एअरपोर्ट अम्रतसर और जम्मू (दोनों ही 245 किलोमीटर दूर) है | यहां से भी बस या टेक्सी द्वारा चंबा पहुचा जा सकता है |

यात्रा को सुखद , सुंदर व यादगार बनाने के लिये कुछ बातो को घ्यान में अवश्य रखना चहिये –

  • अपने परिवार के साथ मिलकर सभी के साथ यह विचार कर ले कि यात्रा कहा जाना है ? यदि आपकी ज़ेब अनुमति दे , तो कम से कम 1000 किलोमीटर की दूरी तय करे | यदि आप ट्रेन से सफर करते है | तो इस दूरी से को पूरा करने में 14 से 18 घंटे लग जाते है | जो कि आपको अपने परिवार के साथ इस समय को बिताने का अवसर मिलता है | इन लम्हों का अनुभव व आनंद ही कुछ अलग होता है | साथ ही कुछ घर लाये हुए खाने की चीजो का स्वाद और भी अधिक बढ़ जाता है | साथ ही हर स्टेशन से कुछ न कुछ खाने की चीजे व सुबह के वक़्त स्टेशन की गर्म कुल्लड वाली चाय व पकोड़े सफर को और भी अधिक सुहाना बना देता है |
  • आपको अपनी ट्रेन का रिजर्वेशन पहले से ही करा देना है ताकि आपके पूरे परिवार का रिजर्वेशन कंफ़र्म हो जाये | जिससे आपके सफर में कोई भी बांधा न आ सके |
  • अपनी इच्छा की यात्रा का चुनाव का ध्यान रखकर पहले बजट बना ले | साथ ही अपना एटीएम कार्ड साथ रख ले व ध्यान रखे सफर के दोरान अधिक पैसे साथ न रखे |
  • यात्रा पर रवाना होने के दो दिन पहले से ही यात्रा पर साथ ले जाने वाली सभी चीजो की सूची बना ले | जैसे- एटीएम कार्ड , मोबाइल चार्जर , कपडे , खाने की चीजे | ऐसे करने से साथ ले जाने वाली चीज नहीं छूटेंगी |
  • यात्रा के दोरान हल्के और आरामदायक कपड़े ही ले जाना चहिये | वो भी आवश्यकता अनुसार, अधिक नहीं |

हम उम्मीद करते है यह सफर आपको बहुत पसंद आया होगा | यदि आप इस जगह जा चुके है या फिर जाने का प्लान कर रहे है तो नीचे दिये कमेंट बॉक्स में जरुर बताये |

आप भारत में किस जगह जाना चाहते है हमे कमेंट बॉक्स में बताये | उस जगह की सम्पूर्ण जानकारी हमारी टीम 48 घंटे के अंदर article के माध्यम से पुब्लिस कर देगी |

हर नये सफर के लिये , हमारे article को पढ़ते रहे | आप सभी का बहुत बहुत धन्यवाद |

आप हमसे नीचे दिये बटन join telegram से जुड़े जिससे हर दिन फायदेमंद पोस्ट आप तक पहुचे |ऐसे ही अपना प्यार बनाये रखे आप सभी का बहुत बहुत धन्यवाद| यदि बटन काम न करे | तो दो – तीन बार पेज को रिफ्रेश करे या टेलीग्राम पर सर्च करे @everythingpro_in|

Join Telegram

यहाँ भी जाये घुमने :

Please share your friends

Leave a Comment

वास्तिविक में भी है बेहद बोल्ड है ओटीटी प्लेटफार्म एक्ट्रेस स्नेहा पॉल हेरान कर देने वाले चेहरे के लिए आलू के फायदे 48 साल की हो जाने पर भी मात देती है नई एक्ट्रेस को तरबूज के 7 फायदे जो हर किसी को मालूम होना चाहिए