एक ब्रैड बेचने वाले लड़के ने कैसे खड़ी करी करोड़ो की कम्पनी –

आज जिन शक्स के बारे में बताने जा रहा हूँ | उनकी भी बहुत मोटीवेट कहानी है | जो हम उम्मीद करते है कि हर युवा को आगे बढ़ने के लिए व अपने लक्ष्य को पाने के लिए हमेशा प्रेरित करेगी | इन शक्स ने कम उम्र में मेहनत करना सीख लिया |

छोटे से गाँव से होने के बावजूद इस युवा ने साइकिल से ब्रैड बैच कर, पैदल चल चलकर सिमकार्ड बेचकर , एक गार्ड की छोटी सी जॉब करने के बाद कड़ी मेहनत व लगन के साथ कैसे कुछ वर्षो में ही करोड़ो कम्पनी खड़ी कर दी |

जिसका सालाना टर्न ओवर करोड़ो में है | चलिए शुरू करते है इस युवा की एक उत्साह भर देने वाली , एक जोश व प्रेणना देने वाली मोटीवेट स्टोरी |

हम बात कर रहे है विकास उपाध्याय की , विकास उपाध्याय उत्तर प्रेदश के जालोन जिला के रामपुरा गाँव के निवासी है | जिनके पिता जी एक किराना की छोटी सी दुकान चलाते थे | और उस छोटी सी दुकान से उनके परिवार का हरण पोषण किया जाता |

जिंदगी की शुरुआती मुश्किले-

पिता जी उस दुकान से अपने परिवार को पालते | और विकास उपाध्याय अपनी पढाई पर फोकस करते | उस वक़्त विकास की उम्र सिर्फ 9 वर्ष थी | कुछ समय बाद पता लगा की विकास की माँ को टीवी बीमारी है | जो की बहुत बड़ी बीमारी थी |

जिसमे विकास के पापा उस छोटी सी दुकान से उनकी बीमारी का खर्चा नहीं उठा पा रहे थे जिस वजह से उन्होंने बहुत कर्ज ले लिया | और उस कर्ज को हटाने के लिए उन्होंने सोचा की यह दिल्ली आ कर वो जॉब करेंगे | और दिल्ली आ कर उन्होंने गार्ड की नोकरी की |

विकास पर अब घर का सभी बोझ आ चुका था | वो अब अपनी दुकान पर बेठने लगे | और घर की थोड़ी मदद करने लगे | पर कुछ समय बाद ही कर्ज देने वालो ने अपना पैसा मागने लगे | जिस वजह से विकास के पिता जी ने अपनी छोटी सी दुकान बेच दी | और लोगो के पैसे चुका दिये | उस वक़्त विकास के परिवार के लिये एक एक पैसा का मोल बहुत अधिक था |

विकास सोचने लगे की इतनी कम उम्र में वो क्या कर सकते है जिससे परिवार की मदद हो सके | पर आखिर एक 9 साल का बच्चा क्या कर सकता था ? विकास सोचने लगे और एक सुबह वो जाग के उठे और उनके कानो में आवाज आई ब्रेड ले लो …ब्रेड ले लो  …वो आवाज कुछ बच्चो की थी |

वो आवाज उनकी मंजिलो तक पहुचने का एक संकेत था जिसको विकास ने महसूस किया और वो अपनी पहली कमाई करने निकल गये | उससे उनका घर तो नही चल पा रहा था पर कुछ तो पैसे आ रहे थे | जिससे कुछ तो मदद हो रही थी |

एक कम उम्र का बच्चा सोचने लगा की वो और क्या कर सकता है जिससे कुछ और पैसे आये | विकास ने एक दिन देखा की किसान अपनी फसल जैसे गेंहू अनाज लाया करते और दुकानदारो को बेच देते और दुकान दार लोगो को बेचते |

विकास ने भी कुछ पैसे जमा कर के वो अनाज लेना शुरू किया एक पेड़ के नीचे अपना बोरा बिछाकर लोगो को बेचने लगे | और ऐसा करने से वो अब कुछ हद  तक अपने परिवार की मदद करने लगे |

माँ ने प्रेरित किया पढने को-

इसी बीच उनके 10वी का रिजल्ट आया जिसमे वो 3rd डीविजन से पास हुए | तब उन्हें ऐसास हुआ की उन्हें आगे पढना चाहिए | और उनकी माँ ने अपने गहने बेच कर उरई शहर में विकास को पढने भेज दिया | विकास ने सोच लिया था कि वो अपनी पढाई का खर्च खुद उठाएंगे |

विकास  सिमकार्ड का काम करने लगे और गली गली जा कर बेचने लगे उस वक़्त सिमकार्ड पर बहुत अच्छा मुनाफा हो जाता था | विकास ने दिन में सिमकार्ड बेचे और रात में अपनी पढाई को वक़्त दिया | सिमकार्ड से वो महीने के अच्छे पैसे कामने लगे | और इतने में उनकी 12वी खत्म हो चुकी थी |

उन्हें आगे और पढना था और विकास ने आईटी ब्रांच से इंजीनियरिंग में दाखिला ले लिया | पर यहा भी बहुत मुश्किले थी |

इंजीनियरिंग के पैसे भरने के लिये उन्होंने अपने कमाये पैसे सब लगा दिये | फिर भी फीस अपूर्ण थी | विकास ने एक कंप्यूटर कोचिंग ज्वाइन कर लिया | जिससे वो बच्चो को अपने कंप्यूटर का ज्ञान पढ़ाते भी और उन्हें सिखने को भी मिलता |

क्योकि विकास ने आईटी ब्रांच तो ले ली थी | पर उससे पहले उन्होंने कभी भी कंप्यूटर को हाथ नहीं लगया था | पर धीरे धीरे सब ठीक हुआ | और उनकी इंजीनियरिंग पूरी हुई | जिसके बाद उन्हें लखनऊ शहर में एक छोटी सी जॉब भी मिल गयी |

जॉब को छोडकर कर बढे अपनी मंजिल की ओर-

जॉब मिल जाने के बाद उनका परिवार खुश था | पर कही न कही विकास खुश नहीं थे क्योकि उन्हें अपना business करना था | और जॉब को छोडकर कर , 4 हजार रूपए , कुछ कपडे और एक लैपटॉप लेकर वो आ गये उत्तर प्रदेश के नॉएडा शहर में | नॉएडा में कुछ दोस्तों के पास कुछ दिन रहे | परन्तु यहा भी धीमे धीमे सब पैसे खत्म हो गये | और वो बहुत उदास होने लगे |

उन्हें लगा की उनकी जॉब छोड़ने का विचार गलत था | अब यहा न खाने के लिये और न ही रहने के लिये छत थी | उसी बीच जिस बिलडिंग में वो रहते थे | उनके मालिक से विकास की मुलाक़ात हुई | और वो रियल स्टेट की कम्पनी चलाते थे जिसके लिये वो एक वेबसाइट बनाने वाले की तलाश कर रहे थे | और बस विकास को अपनी राह दिख गयी |

उन्होंने बिलडिंग के मालिक से कहा की में आपकी वेबसाइट बनाता हूँ | और विकास ने कुछ महीने में उनकी वेबसाइट बना कर लोंच कर दी | जिसके बदले में उन्हीने विकास को एक छोटी सी उसी बिलडिंग का बेसमेंट दे दिया | जहा विकास ने कई दिन गुजारे |

अपने काम को उसी जगह से करते और रात होने पर वही सो जाते | विकास दिन रात मेहनत करते गये | और अपने साथ एक टीम को बनाया | मेहनत और लगन से 2015 में विकास ने Dream steps नाम से अपनी IT company बनायीं | Dream step की एक ब्रांच कनाडा और दुबई में है | विकास की मेहनत और लगन से आज उनकी कम्पनी का टर्न ओवर करोड़ो में है |  

हमने आज इस article से क्या सिखा ?

हमने इस article के माध्यम से आप सभी को बताने का प्रयास किया है | कि किसी भी मंजिल तक पहुचने से पहले सबसे जरूरी कदम होता है …. शुरू करना | आप समझ गये होगे में क्या कहना चाहता हूँ | एक 9 साल का बच्चा जब शुरुआत कर सकता है तो आप क्यों नहीं |

 यह article आपको जरुर पसंद आया होगा | अपनी राय comment बॉक्स में जरुर दे | व अपने मित्र व सोशल मीडिया पर जरुर share करे | bell icon से हमसे जुड़े | आप सभी का बहुत बहुत धन्यवाद |

Please share your friends

2 thoughts on “एक ब्रैड बेचने वाले लड़के ने कैसे खड़ी करी करोड़ो की कम्पनी –”

Leave a Comment

वास्तिविक में भी है बेहद बोल्ड है ओटीटी प्लेटफार्म एक्ट्रेस स्नेहा पॉल हेरान कर देने वाले चेहरे के लिए आलू के फायदे 48 साल की हो जाने पर भी मात देती है नई एक्ट्रेस को तरबूज के 7 फायदे जो हर किसी को मालूम होना चाहिए