जीवन में आगे बढना है तो ठहर कर जरुर विचार करे-

आज हम बात करंगे यदि हम हर बात में अधिक सोंचते है अधिक दिमाग लगाते है | तो क्या वो अधिक दिमाग लगाना सही है या गलत ? हम अपनी सोंच व विचार के माध्यम से जो भी आप सभी को समझाने का प्रयास कर रहे है वो इस article के लास्ट तक पहुचने पर आपको पता लग जायेगा |

यह article लास्ट तक जरुर पढ़े | हम पूरे विश्वास से कहते है यह आपको एक नयी  सोंच व नयी सीख देगा | जो आपको आपकी पूरी लाइफ में हर मोड़ पर काम आयेगा | आप सभी का एक बार फिर Everythingpro.in के My thinking में स्वागत है | चलिए शुरू करते है –

यह बात सच है कि हमे हर काम को ध्यान से व दिमाग लगा कर काम करना चाहिए | पर कभी कभी ऐसा होता है जरुरत से अधिक दिमाग लगाना | हम पर ही कभी कभी भारी पड़ सकता है | यह article लिखने का मेरा मकसद है कि जब भी में किसी भी काम को कर रहा होता हूँ और यदि मुझे उस काम को करने में किसी भी प्रकार की समस्या आती है |

तो में कुछ बाते को सोंच कर उस कार्य को आगे बढ़ता हूँ | जो मुझे लगा आप सभी से शेयर करना चहिये | हम आपको एक छोटी सी कहानी सुना कर बताता हूँ कि हम क्या बताने का प्रयास कर रहे है |

कहानी से सीख-

कहानी है एक आदमी की जो किसी भी प्रकार के लॉक को खोल सकता था | वो हर प्रकार के लॉक खोलने में एक्सपर्ट था | चाहे वो किसी भी प्रकार का लॉक हो | घर का लॉक हो , किसी तिजोरी का लॉक हो या किसी भी हाई सिक्योरिटी का लॉक हो | वो व्यक्ति हर लॉक खोल लेता | और इस कार्य से लोग बहुत हैरान होते कि वो ऐसा कैसे कर लेता है ?

एक दिन एक प्रोग्राम रखा गया | जिसमे उस व्यक्ति को एक चेलेंज दिया गया कि उस व्यक्ति को एक बड़े से लोहे के बॉक्स में बंद कर दिया जायेगा | और उस लोहे के बॉक्स को एक पानी भरे स्वमिंग पूल में डाल दिया जायेगा |

जिसको उस व्यक्ति को लॉक खोल कर बहार आना है | यदि वो कर सकता है तो वो यह आयोजन जीत जायेगा | और यदि नहीं कर पाया तो वहा अलार्म बजा कर, हार स्वीकार कर के , उसे बहार निकल लिया जायेगा |

उस व्यक्ति ने चेलेंज को स्वीकार किया और लोहे के बॉक्स के अंदर चला गया | और उस लोहे के बॉक्स को पानी से भरे स्वमिंग पूल में डाल दिया गया | और वहा उपस्थित लोगो की संख्या जमा होना शुरू हो गयी | और बहुत बेताब रहे इस खेल को देखने के लिये |

पानी के अंदर जाने पर उस व्यक्ति ने अपनी जेब से एक तार निकाला और उस लॉक को खोलने में लग गया | धीरे धीरे सेकंड बढ़ रहे थे | और एक एक सेकंड को रोक पाना उस व्यक्ति के लिए बहुत कठीन था | क्योकि साँस रोक पाना बहुत मुश्किल हो रहा था |

दुनिया सोंचने लगी की यह व्यक्ति कुछ ही सेकंड में हर लॉक खोल लेता है | तो आज फिर इतना टाइम क्यों लग रहा है ? सेकंड धीरे धीरे बढ़ते गये और उस व्यक्ति को उस लॉक को खोलने में बहुत दिक्कत हो रही थी | उस व्यक्ति ने उस लॉक को खोलने के लिए अपना सारा दिमाग लगा दिया , अपनी सारी ट्रिक लगा दी व अपना जीवन का सारा लॉक खोलने के अनुभव लगा दिया |

वो लॉक नहीं खोल पा रहा था | और आखिरी में उस व्यक्ति ने हार मानना ठीक समझा और अलार्म बजा दिया | वो व्यक्ति लॉक  को नहीं खोल पाया | और अलार्म बज कर ही उस लोहे के बॉक्स को पानी से धीरे धीरे ऊपर आने लगा |

जब वो बॉक्स उपर आ रहा था वो दुनिया से नजरे नहीं मिला पा रहा था | क्योकि उसे बहुत ही हारा हुआ महसूस हो रहा था | उस व्यक्ति को शर्म आ रही थी |

लोहे के बॉक्स में बेठे उस व्यक्ति ने जब बॉक्स के गेट को पकड़ता है और थोडा सा साइड से धक्का लगता है और वो देखता है कि बॉक्स का गेट खुल जाता है | और उस व्यक्ति को मालूम पड़ता है कि गेट लॉक था ही नहीं |

उसने सोंचा कि यह बात मुझे पहले क्यों नहीं ध्यान आया कि शायद गेट लॉक ही नहीं किया गया होगा | जब सारी ट्रिक, सारा अनुभव लगाने के बाद क्यों ध्यान नहीं आया की लोहे के बॉक्स को लॉक ही नहीं किया गया हो |

यह भी पढ़े :

हमने इस article से क्या सीखा-

जब सलूशन बहुत ही simple होता है तो हम कितने भी समझदार ,कितने भी तेज दिमाग वाले , कितने भी टेलेंटेड हो आपका टेलेंट कभी भी काम नहीं आयेगा यदि अपने ठहर कर नहीं सोंचा | यदि आपको ठहर कर सोंचना नहीं आता है |

कई बार, कुछ न करना ही सलूशन होता है | कई बार यह देखना ही सलूशन होता है कि वाकई में प्रॉब्लम है भी या नहीं | हमे हमेशा से सुना है कि busy रहो busy रहो | Busy लोगो की वैल्यू होती है | Busy होना अच्छा है पर कभी कभी हमे कुछ न करना भी सलूशन होता है |

यदि वो व्यक्ति उस वक़्त थोडा सा ठहर कर सोंच लेता | पर वो लोगो के सामने अपने आप को महान दिखने में , अपने आप को अच्छा दिखने में busy हो गया था |

जब हम कुछ भी नहीं कर रहे होते है तो हमारे दिमाग ऐसे आईडिया आते है जो Busy person के दिमाग में कभी भी नहीं आ सकते है | आप जितने भी Millionaire को देख ले उनकी सफलता का राज है क्योकि उन्होंने ठहर के सोंचा और आगे बढ़े |

हमने इस article के माध्यम से बहुत गहरी बात समझाने का प्रयास किया है | हम उम्मीद करते है कि आप ठहर के विचार करना सीखेंगे | कभी कभी हमारी प्रोब्लम बहुत simple होती है पर हम उन प्रोब्लम को बहुत ही ज्यादा complicate कर देते है |

में यही 2 लाइन कह कर इस article को खत्म करता हूँ | जो लोग कुछ भी नहीं करते है, वो कमाल करते है | इसके अंदर बहुत ही गहरा संदेश है हम आशा करते है अपने समझा होगा |

यह article अपने मित्र व परिवार के लोगो के साथ जरुर शेयर करे | एक नई सोंच एक नये विचार को लेकर फिर मिलूँगा | अपनी अपनी राय comment बॉक्स में दे |

ऐसे ही interested व मोटीवेट article पढने के लिए हमारी website से जुड़े रहे | नीचे दिये bell icon से हमारे पोर्टल को follow करे | जिससे हर जानकारी आप तक पहुचे |अपना कीमती वक़्त देने के लिये |  आप सभी का बहुत बहुत धन्यवाद |

Leave a Comment