क्या आप जानते है हमारा दिमाग कैसे काम करता है ?

यह article बहुत बहुत अधिक जरुरी होने वाला है | क्योकि यह article पढ़ कर आपको ऐसास होगा कि आपका दिमाग हर उस सपने को पूरा कर सकता है जो आपने देखे है |  आपको पता ही होगा कि हमारे दिमाग में इतनी ताक़त होती है जो हमे हर मुकाम पर पहुचा सकता है सिर्फ यह हमारा दिमाग |

Note: If you access our website from another country. so tap on the menu and select your country language.

आज यह पूरा article हम अपने इस प्रभावशाली दिमाग को ही पूरी तरह से समर्पित करते है | और बताने का प्रयास करते है यह कैसे काम करता है | आप सभी का एक बार फिर Everythingpro.in के My Thinking में स्वागत है |

हमारे दिमाग में इतनी पॉवर होती है कि वो हमारे सपने को रियलिटी में बदल सकता है | हमारी जो सोंच है वो सच में हकीकत में बदल सकती है |

हमारा दिमाग दो भाग में divide होता है-

  1.  Conscious mind (चेतन मन )
  2.  Subconscious mind (अवचेतन मन)

Conscious Mind-

हमारा चेतन मन वो होता है कि हम किसी बात को गहरा सोंच रहे होते है कोई फैसला ले रहे होते है या उस बात पर analysis कर रहे होते है | और ऐसे प्रोसेस को control करता है हमारा चेतन मन यानी conscious mind.

Subconscious Mind-

हमारा अवचेतन मन हमारी भावनाये, हमारा विश्वास, हमारी अदादते , हमारी सोंच , हमारी पुरानी यादे और फीलिंग को कंट्रोल करता है | और यह सभी चीजे हमारी पूरी लाइफ को control करती है |

हम आपको बता दे हमारा conscious mind हमारे दिमाग का सिर्फ 10% use करता है | और हमारा Subconscious mind 90% use करता है | और अधिकतर लोगो को इस 90% पॉवर का use ही नहीं करते और वो सामन्य रह जाते है |

जो व्यक्ति इस Subconscious mind की पॉवर को उपयोग लेते है वो एक्सीलेंट, ब्रिलियंट कह्लाये जाते है |

हमारे Subconcius mind को चेक करने के लिए बहुत ही अधिक रिसर्च हुई है बहुत ही अधिक टेस्ट हुए है पर इनमे से सबसे बेहतरीन टेस्ट हुआ है Placebo Effect.

इस टेस्ट में एक ही बीमारी से गुजर रहे 10 आदमी को लिया गया | जिसमे से 5 को उस ही बीमारी की दवाई के कैप्सूल दिए गये | और वाकी के 5 को उस ही कैप्सूल के जेसे कलर की सुगुर के कैप्सूल दिये गये | जो की उनकी बीमारी की दवाई थी ही नहीं | और उनसे बोला गया कि यह वोही कैप्सूल है जो उन लोगो को दिये  है |

मतलब एक ग्रुप को सच में दवाई दी गयी और दूसरे ग्रुप को सिर्फ बोला गया की यह सच में दवाई है | परन्तु असली में वो सक्कर के कैप्सूल दे दिए गये |

और कुछ दिन बाद वो दोनों ग्रुप के व्यक्ति ठीक हुए | और दोनों ग्रुप के व्यक्तियों का रिकवरी रेट बराबर था | मतलब इस टेस्ट से यह साबित हुआ कि दवाईयो ने कुछ नहीं किया | उन्हें ठीक किया उनकी सोंच ने |

उन्होंने यह मान लिया की उन्होंने दवाई खा ली है और अब वो ठीक हो रहे है | और उनकी बॉडी ने उनके Subconscious mind को ऐसे ही सिग्नल दिए की वो अब ठीक हो रहे है | यह थी पूरी एक रिसर्च अब बात कर लेते है |

हम मान लेते है की हमे कही एक स्पीच देने जानी है और स्पीच देने से पहले हम सोंचने लगते है की कही कुछ गडबड हो गयी तो | भले ही आपको पूरी स्पीच याद हो | पर हम जैसे ही स्पीच के लिए जाते है हमारे पैर कापने लगते है और हम वो बाते सोंचने लगते है जो हमने कुछ देर पहले सोंची थी की कही गडबड हो गयी तो |

इतने में ही  हमारा Subconscious mind उन बातो को दुबारा याद करने लगता है | और जिसकी वजह से हमारे mind को विश्वास हो जाता है की हम under confidence है |

हम और अधिक घबराते है और नर्वश होते है | और पूरी याद हुई स्पीच पूरी भूलना शुरू हो जाती है | यानि हमारा Subconscious mind पॉजिटिव व निगेटिव काम करता है | हम जैसा सोंचंगे वो वेसा ही सोंचने में लग जाता है | और दिन भर में कई चीजे होती है जिसमे हमारा Subconscious mind पॉजिटिव व निगेटिव रोल प्ले करता है |

येही अंतर होता है सफल आदमी में और असफल आदमी में | हर सफल आदमी Subconscious mind को पॉजिटिव सोचता है | वो इसी लिये हर मुश्किल को पार कर लेता है क्योकि वो अपने आप को याद दिलाता रहता है कि वो यह कर सकता है उसके अंदर काबलियत है | वो पॉजिटिव माइंड से सोंचता है |

कि मेरे आगे कोई भी मुश्किल मुझे रोक नहीं सकती | कोई भी मुश्किल मेरे सामने टिक नहीं सकती | और यह सब चीजे ही हम सफल व्यक्ति का confidence कहते है | हमने यह जान लिया की Subconscious mind कितना पावरफुल होता है |

यह भी पढ़े :

कैसे Subconcius mind पॉवर को उपयोग में ले –

जिस तरह हमारी बॉडी में सुबह के टाइम सबसे अधिक एनर्जी होती है उसी तरह Subconcius mind का एक्टिव होने का एक समय होता है |

जैसा हम जानते है कि हमारा दिमाग जो भागो में काम करता है | Conscious mind और Subconscious mind जब हमारा Conscious mind एक्टिव नहीं होता है यानि तब हमारा Subconscious mind एक्टिव रहता है | और इस समय Subconscious mind  सबसे अधिक पावरफुल होता है | और यह समय आता है हर रात जब हम सोने के लिये जाते है |

आखरी 5 मिनट पहले, जब हम धीरे धीरे नींद की तरफ बढ़ते है | जब हमारे conscious mind की पॉवर धीरे धीरे कम होती चली जाती है उस समय बाद पॉवर आती है Subconscious mind के पास यानि अवचेतन मन के पास जो कभी सोता नहीं है Subconscious mind के करण ही हमे सपने आते है | और यह समय ऐसा समय है जो भी चीजे इस वक़्त आपके Subconscious mind को बता दिया जाये |

वो उसी काम में लग जाता है | पर अधिकतर लोगो की आदत होती है वो सोने से पहले अपने दिन की बूरी चीजो को याद कर रहे होते है |  और यह सबी बाते हमारे अवचेतन दिमाग में Subconscious mind में feed हो जाती है | और सुबह जाग कर हमारा Conscious mind तो एक्टिव हो जाता है पर Subconscious mind वोही सब इनफार्मेशन देता है जो रात के 5 मिनट पहले हमने उसे दी थी |

इस सब का प्रभाव अगले दिन पर ही आता है और दिन पर दिन ख़राब होते चले जाते है | और यह चीज हमेशा चलती रहती है | और हमे लगता है की जिंदगी सुधर नहीं रही | और वोही सब प्रॉब्लम बार बार हमारे पास आ जाती है |

हमने इस article से क्या सीखा-

हमने इस article के माध्यम से आप सभी को बताने का प्रयास किया है कि हमारा दिमाग कैसे काम करता है | और हमे क्या करना चाहिए | हमे हर रोज सोने के 5 मिनट पहले उस 5 मिनट में अपने आप से पॉजिटिव बाते बोलनी है | हमे अपने गोल्स को पॉजिटिव माइंड से सोचना है | सोने से पहले कभी भी निगेटिव बात नहीं सोचनी है |

ताकि Subconscious mind अपना काम कर सके | सुबह वो Conscious mind को वोही इनफार्मेशन दे जो आप ने रात में पॉजिटिव बाते सोंची है | और अगला दिन आपका अपने गोल्स पर काम करेगा | न की नेगेटिव mind को लेकर |

उम्मीद करते यह article आप सभी को कुछ नया सिखने को मिला होगा | ऐसे ही अपना प्यार बनाये रखे | आप सभी का बहुत बहुत धन्यवाद |

Leave a Comment