Aeronautical इंजीनियर कैसे बनते है ? (Aeronautical Engineer kaise bane)-

यदि आप भी एक Aeronautical Engineer बनना चाहते है | और आप Aeronautical इंजीनियरिंग में अपना करियर बनना चाहते है | तो यह आर्टिकल आपके करियर को सफल बनाने में मदद करेगा |

हर किसी को सफल होना है | पर यदि हम इस सफल होने में सबसे महत्वपूर्ण बात जो है ,वो है उस क्षेत्र की सम्पूर्ण जानकारी का होना | आप में से बहुत से लोग है जो इस एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग में अपना भविष्य बनाना चाहते है |

यदि एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग में सफल व्यक्ति में जो top पर नाम आता है वो है देश के 11 वे राष्ट्रपति डॉ.ऐ.पी.जे अब्दुल कलाम, जिनके कई प्रयास व सफलताओ के बाद  एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग को उचित स्थान दिलाया है |  

 एयरोनॉटिकल इंजीनियर  (Aeronautical Engineer)  कैसे बनते है ? Aeronautical Engineering in hindi, एयरोनॉटिकल इंजीनियर का काम क्या होता है ? एयरोनॉटिकल इंजीनियर  की salary कितनी होती है ? एयरोनॉटिकल इंजीनियर योग्यता क्या होती है ? Aeronautical Engineer से सम्बन्धित सभी जानकारी , इस article के लास्ट तक मिल जायेगी |

आज भी बहुत से स्टूडेंट व पेरेंट्स है जिन्हें इस क्षेत्र की  जानकारी नहीं है कि एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग क्या होती है ? और क्या इस क्षेत्र में भी हम अपने बच्चे का भविष्य देख सकते है |

इस क्षेत्र में क्या भविष्य है | आज यह article आपके सभी सवालों के जबाब दे देगा | और आप एक स्टूडेंट्स हो या पेरेंट्स दोनों ही अपनी खुद की व बच्चे की इच्छा के अनुसार , इस क्षेत्र में भी एक बेहतर भविष्य बना सकते है |

एयरोनॉटिकल  (Aeronautical Engineering) इंजीनियरिंग क्या है ? –

इंजीनियरिंग की top ब्रांचो में से एक ब्रांच Aeronautical Engineering भी है | जिसमे वैमानिक अभियांत्रिक की पढाई होती है | एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग में हवाई उड़ान, डिजायन, निर्माण , डिफेन्स टेक्नोलॉजी , स्पेस रिसर्च , मिलेट्री एयरक्राफ्ट के उपकरण के साथ साथ , अंतरिक्ष यानो और मिसायल से जुडी जानकारी दी जाती है | साथ ही एयरक्राफ्ट को ऑपरेट करने वाली मशीनरी सिस्टम को डिजायन व निर्माण की भी जानकारी दी जाती है |  

एयरोनॉटिकल इंजीनियर का काम क्या होता है ? (Aeronautical Engineer ka kaam kya hota hai)

यदि हम सरल शब्दों में बताने का प्रयास करू | जिस प्रकार हम जानते है हर क्षेत्र में एक इंजीनियर की बेहद महत्वपूर्ण भूमिका होती है | जिस तरह एक भवन निर्माण में सिविल इंजीनियर की आवश्यकता होती है | जिस प्रकार एक प्लांट में बड़ी मशीन को ठीक करने के लिये, एक मैकेनिकल इंजीनियर की आवश्यकता पड़ती है | जिस प्रकार एक सॉफ्टवेयर को ठीक करने के लिये, सॉफ्टवेयर इंजीनियर की जरूरत पड़ती है | ठीक उसी प्रकार विमान में उपयोग होने वाले उपकरण का संचालन, निर्माण व ठीक करने का कार्य एक एयरोनॉटिकल इंजीनियर का होता है |

एयरोनॉटिकल इंजीनियर कैसे बनते है ? (Aeronautical Engineer kaise bane) –

एयरोनॉटिकल इंजीनियर बनने के लिये | डिप्लोमा व डिग्री दोनों तरीके से एयरोनॉटिकल इंजीनियर बन सकते है |  साइंस स्ट्रीम से होना अनिवार्य है | मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी से एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग में डिप्लोमा व डिग्री होना अनिवार्य है |

जूनियर एयरोनॉटिकल इंजीनियर की योग्यता –

  • साइंस स्ट्रीम से 10th होना अनिवार्य |
  • आप 10th के बाद 12th भी कर सकते है |
  • एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग से 3 वर्ष का पॉलिटेक्निक कोर्स | 

एयरोनॉटिकल इंजीनियर की योग्यता –

  • साइंस स्ट्रीम से 12th अनिवार्य
  •  साइंस स्ट्रीम (मैथ्स , फिजिक्स और केमिस्ट्री) में 60% होना अनिवार्य | जिससे आप एंट्रेंस एग्जाम के लिये apply कर सकते है |
  • एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग से 4 वर्ष की इंजीनियरिंग डिग्री |

Top Collages of Aeronautical Engineering (टॉप  एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग के कॉलेज)-

  • IIT Bombay (Indian Institute of Technology, Bombay)
  • IIT Kanpur (Indian Institute of Technology, Kanpur)
  • IIT Khargpur (Indian Institute of Technology, Khargpur)
  • IIT Madras  (Indian Institute of Technology, Madras)
  • Amity university noida (u.p)
  • Indian Institute of space science and technology , Thiruvannanthapuram

Aeronautical Engineering fees –

एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग से यदि आप डिप्लोमा कोर्स करते है तो 3 वर्ष के 60 से 1 लाख रुपय | और यदि 4 वर्ष डिग्री कोर्स करते है तो 4 से 6 लाख रुपय पूरी चार वर्ष की फ़ीस हो सकती है |

यदि आपको दोनों ही कोर्स में गवर्नमेंट कॉलेज मिलता है तो आपकी फ़ीस में काफ़ी राहत मिल जाती है | हम आशा करते है कि आपको गवर्नमेंट कॉलेज ही प्राप्त हो |

यह भी पढ़े :

Aeronautical Engineering Subjects (एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग के कुछ प्रमुख सब्जेक्ट्स) –

  • Basics of machine
  • Basics of electronic engineering
  • Aircraft Performences
  • Fandamental of gas turbine engines
  • Aircraft stability of control
  • Control of aircraft
  • Safety of Aircraft
  • Air trefic control

एयरोनॉटिकल  इंजीनियरिंग के जॉब सेक्टर (Job sector for  Aeronautical Engineering) –

एयरोनॉटिकल  इंजीनियरिंग करने के बाद आपके पास दोनों ही क्षेत्र के अवसर होते है | आप दोनों ही सेक्टर गवर्नमेंट और प्राइवेट में अपना बेहतर भविष्य बना सकते है |

Aeronautical Engineering Job opportunity in Government sector –

  • ISRO (Indian Space Resarch Organisation)
  • DRDO ( Defence Research and Development Organisation)
  • HAL (Hindusthan Aeronautical Limted)
  • National Aerospace Laboratories
  • BrahMos Aerospace Pvt Ltd  

Aeronautical Engineering Job opportunity in  Private sector –

  • Boeing India Private Limted, Chennai
  • Bangalore Aircraft Industries Private Limted
  • Air works India Engineering Private Limted, Mumbai
  • Horizon Aerospace (india) Private Limted, Gurugram
  • Magellan Aerospace India Private Limted , Bangalore
  • SMR Aviation Private Limted , Delhi
  • Komoline Aerospace Limted, Ahmedabad
  • General Aeronautics Pvt Ltd , Bangalore

Aeronautical engineer salary in india  (एयरोनॉटिकल इंजीनियर को कितने रुपय मिलते है ?) –

एक एयरोनॉटिकल इंजीनियर का वेतन बेहद ही आकर्षक होता है | दोनों ही सेक्टर प्राइवेट व गवर्नमेंट में एक एयरोनॉटिकल इंजीनियर का शुरुआती वेतन 40 हज़ार से 50 हज़ार रुपए महीने होता है | जो अनुभव पर 50 से 1.50 लाख रुपय प्रति महीने वेतन प्राप्त कर सकते है |

स्टूडेंट द्वारा पूछे जाने वाले कुछ महत्वपूर्ण सवाल (FAQs)-

सवाल –  क्या 12 वी के बाद हम इन कोर्सेज को कर सकते है ?

जवाब – जी हाँ | आप 12वी के बाद एयरोनॉटिकल  इंजीनियरिंग कोर्सेज को कर सकते है |

सवाल –  डिप्लोमा कोर्सेस (पॉलिटेक्निक) में 12वी अनिवार्य है ?

जवाब – नहीं , आप एयरोनॉटिकल  इंजीनियरिंग से डिप्लोमा कर सकते है | जिसके लिये सिर्फ 10वी साइंस स्ट्रीम से अनिवार्य है | (10+2) करने के बाद भी आप डिप्लोमा कोर्सेस को कर सकते है |

सवाल –  क्या एयरोनॉटिकल  इंजीनियरिंग पास करने के बाद , विदेश में जॉब के अवसर मिल सकते है ?

जवाब – जी बिल्कुल , विदेश में भी एयरोनॉटिकल इंजीनियर की बहुत मांग है | डिग्री प्राप्त करने के बाद आप विदेश जॉब कर सकते है |

सवाल –  क्या इस पढाई करने के लिये कंप्यूटर ज्ञान जरुरी है ?

जवाब – हाँ , इस कोर्सेज को करने के लिये आपको कंप्यूटर ज्ञान की अच्छी खासी जानकारी होना अनिवार्य है | साथ ही इलेक्ट्रॉनिक इंजीनियरिंग की भी जानकारी अनिवार्य है |

सवाल –  क्या इस क्षेत्र में जॉब की सिक्योरिटी है ?

जवाब – हर क्षेत्र में सफलता की कुंजी कड़ी मेहनत होती है | पर इस क्षेत्र में बहुत ही कम लोग इस क्षेत्र की पढाई  करते है | इस लिये इसकी डिमांड हमेशा बनी रहती है | देश–विदेश दोनों जगह यह हाई डिमांडिंग जॉब है |

सवाल – एयरोनॉटिकल इंजीनियर बनने का सबसे सरल व बेहतर तरीका ?

जवाब – एयरोनॉटिकल इंजीनियर बनने का सबसे ठीक तरीका है 10वी के बाद डिप्लोमा कोर्सेज को ज्वाइन करे | डिप्लोमा पूरा होने के बाद आपको डायरेक्ट 2nd year में B.tech / BE में दाखिला मिल जायेगा |

इससे कुछ लाभ होंगे जैसे –

  1. आपको (10+2) नहीं करने पड़ेगी |
  2. आपकी 2 साल बच जायेगी |
  3. आपके पास एयरोनॉटिकल  इंजीनियरिंग में डिप्लोमा हासिल हो जायेगा
  4. आपको  एयरोनॉटिकल  इंजीनियरिंग की खूब जानकारी हो जायेगी | जो आपको B.tech / BE में बेहद मदद करेगी |

 Conclusion-  

हम उम्मीद करते है की एयरोनॉटिकल इंजीनियर (Aeronautical Engineer) कैसे बनते है ? एयरोनॉटिकल इंजीनियर के लिये क्या योग्यता चाहिए होती है ? एयरोनॉटिकल इंजीनियर की salary कितनी होती है ? एयरोनॉटिकल इंजीनियर से सम्बन्धित सभी जानकारी इस article में आपको प्राप्त हो गयी होगी |

यदि आपको लगता है कि इस article में कुछ सुधार की आवश्यकता है तो हमे comment box में जरुर बताये | यदि आपका कोई भी सवाल है तो आप कमेंट बॉक्स में अपनी राय व सवाल पूछे |

यह article आपको अच्छा लगा हो अपने मित्र व बच्चो तक जरुर शेयर करे | ऐसे ही लाभकारी व ज्ञान को बढाने वाले article पढने के लिये, नीचे दी गयी घंटी से, हम से जुड़े | अपना कीमती वक़्त देने के लिये बहुत बहुत धन्यवाद |

सफलता का मन्त्र :

  • अपने लक्ष्य की सम्पूर्ण जानकारी का होना |
  • हमेशा अपने लक्ष्य को पाने के लिये कड़ी मेहनत करते रहे |
  • सबसे जरुरी बात , खुद अपनी क़ाबलियत पर विश्वास रखे |
  • कभी भी निराश न हो |
  • अगर आप गलतियाँ कर रहे है , तो निराश बिल्कुल न हो , वल्कि ख़ुशी मनाये की आप कुछ नया जरुर सीख रहे है |
  • जो व्यक्ति कहता है , उसने अपने जीवन में कुछ गलतियाँ नहीं की , यकीन माने उसने अपने जीवन में कुछ नया नहीं सीखा |

चिंता व परेशान न हो यदि आप अपने करियर सम्बन्धित किसी भी समस्या से जुंझ रहे है | तो नीचे दिये कमेंट बॉक्स में हमे बताये |

हमेशा ध्यान रखे , उचित मार्गदर्शन से ही असंभव को संभव किया जा सकता है | हमसे अपनी समस्या व उलझाने साँझा करे | हम हर संभव मदद आपकी करेंगे |

आपके उज्जवल भविष्य के लिये हमारी टीम Everythingpro.in की तरफ से बहुत बहुत शुभकामनाएँ….

Please share your friends

Leave a Comment

error: Content is protected !!