केमिकल इंजीनियर (chemical engineer) कैसे बनते है ?

यदि आपकी भी रूचि केमिस्ट्री सब्जेक्ट में अधिक है | और आप भी अपना करियर एक केमिकल इंजीनियर (chemical engineer) के रूप में अपना भविष्य बनाना चाहते है | तो यह पूरा आर्टिकल आपके लिये ही है |

जिसमे हम बात करेंगे कि  केमिकल इंजीनियर (Chemical Engineer) कैसे बनते है ? केमिकल इंजीनियर के लिये क्या योग्यता चाहिए होती है ? केमिकल इंजीनियर की salary कितनी होती है ? केमिकल इंजीनियर से सम्बन्धित सभी जानकारी , इस article के लास्ट तक आपको मिल जायेगी |

इंजीनियरिंग की हर मुख्य ब्रांचो में से एक केमिकल इंजीनियरिंग (Chemical Engineering) भी है | जिन बच्चो को केमिस्ट्री सब्जेक्ट से अधिक प्रेम होता है, और वो डॉक्टर के रूप में अपना भविष्य नहीं बनाना पसंद करते है | वल्कि वो एक इंजीनियर के रूप में अपना भविष्य बनाना चाहते है , तो केमिकल इंजीनियर (chemical engineer) एक बेहतर विकल्प हो सकता है |  

जिस प्रकार हर क्षेत्र में एक इंजीनियर की जरूरत व मांग हमेशा रहती है, चाहे वो किसी भी रूप में हो – सिविल इंजीनियर , मैकेनिकल इंजीनियर , इलेक्ट्रिकल इंजीनियर या फिर सॉफ्टवेयर इंजीनियर , उसी प्रकार एक केमिकल इंजीनियर की भी मांग हमेशा ही भविष्य में रहेगी |

इस क्षेत्र में भी यदि आप अपनी पूरी लगन व मेहनत से इस क्षेत्र को अपने करियर के रूप में बनाना चाहते है तो यह केमिकल इंजीनियरिंग का क्षेत्र भी एक सुनहेरा अवसर है | अपने करियर को सफल बनाने के लिये |

केमिकल इंजीनियरिंग क्या है ? (Chemical Engineering kya hai) –

केमिकल इंजीनियरिंग में स्टूडेंट्स को रसायनों व रासयनिक उत्पादों के बारे में जानकारी दी जाती है | और उत्पादों पर रिसर्च करके नये उत्पादों को बनाने के कार्य को सिखाया जाता है | केमिकल इंजीनियरिंग में रॉ मटेरियल को उपयोगी प्रोडक्ट बनाने के लिये केमिकल का उपयोग करना होता है | जिसके बाद ही वो रॉ मटेरियल, उपयोगी प्रोडक्ट्स में परिवर्तित होता है | व कार्य के योग्य बनता है |

केमिकल इंजीनियर (Chemical Engineer) kaise bane-

जूनियर केमिकल इंजीनियर (junior chemical engineer) की योग्यता –

  • साइंस स्ट्रीम से 10th होना अनिवार्य |
  • आप 10th के बाद 12th भी कर सकते है |
  • केमिकल इंजीनियरिंग से 3 वर्ष का पॉलिटेक्निक कोर्स | 

केमिकल इंजीनियर (Chemical Engineer) की योग्यता –                  

  • साइंस स्ट्रीम से 12th अनिवार्य
  •  साइंस स्ट्रीम (मैथ्स , फिजिक्स और केमिस्ट्री) में 60% होना अनिवार्य | जिससे आप एंट्रेंस एग्जाम के लिये apply कर सकते है |
  • केमिकल इंजीनियरिंग से 4 वर्ष की इंजीनियरिंग डिग्री पूर्ण करने पर |

केमिकल इंजीनियर काम क्या करते है ? (chemical engineer kaam kya karte hai) –

एक केमिकल इंजीनियर के कार्य , हर इंजीनियर की तरह निम्न कार्य होते है | यदि एक केमिकल इंजीनियर की बात करे तो वो मुख्य रूप से जैसे- एक रॉ मटेरीयल को केमिकल प्रोडक्ट बनाने के साथ – साथ , सुपरविजन, उपकरण की डिजाइनिंग, प्रोसेस मटेरीयल , प्रोसेस ऑपरेशन का कार्य करते है |

एक केमिकल इंजीनियर प्लांट्स के अतिरिक्त, केमिकल इंजीनियर नये केमिकल प्रोडक्ट्स की रिसर्च करने के लिये बायो-टेक या बायोटेक्नोलॉजी फ़र्म में भी कार्य करते है |

केमिकल इंजीनियर (Chemical Engineer) के कुछ मुख्य पद  –

  • Energy Manager
  • Materials Engineer
  • Production Engineer
  • Process Engineer
  • Quality Engineer
  • Waste management officer
  • Analytical Manager

केमिकल इंजीनियर (Chemical Engineer) के मुख्य फिल्ड –

  • Oil & Petrolium Industries
  • Food Scientist & technology
  • Food process industries
  • Paints and chemical industries
  • Biotechnology resarch centers
  • Healthcare industries

 Top Collage of Chemical Engineering in india  (टॉप केमिकल इंजीनियरिंग के कॉलेज)-

  • IIT Madras  (Indian Institute of Technology Madras)  
  • IIT Delhi (Indian Institute of Technology Delhi)  
  • IIT Bombay (Indian Institute of Technology, Bombay)
  • IIT Kanpur (Indian Institute of Technology, Kanpur)
  • IIT Khargpur (Indian Institute of Technology, Khargpur)
  • IIT Roorkee ((Indian Institute of Technology, Roorkee)
  • IIT Guwahati (Indian Institute of Technology, Guwahti)
  • IIT Hyderabad (Indian Institute of Technology, Hyderabad)

Chemical Engineering Subjects (केमिकल   इंजीनियरिंग के कुछ प्रमुख सब्जेक्ट्स)-

  • Basic civil & mechanical engineering (1st  Semester / 1st-Year)
  • Engineering Mechanics (1st/1st)
  • Material Science (2nd/1st)
  • Environmental Science (2nd/1st)
  • Engineering Thermodynamics (2nd/1st)
  • Process Calculations (3/2nd)
  • Momentum Transfer (3/2nd)
  • Organic chemistry (4th/2nd)
  • Chemical Engineering Thermodynamics (4th/2nd)
  • Process Heat Transfers (4th/2nd)
  • Process Instrumentation (5 th/3rd)
  • Chemical Reaction Engineering (5 th/3rd)
  • Mass transfer (6 th/3rd)
  • Process Dynamics & Control (7 th/4 th)
  • Process Engineering Economics (8 th/4 th)

केमिकल इंजीनियरिंग के जॉब सेक्टर (Job sector for  Chemical Engineering) –

केमिकल इंजीनियरिंग करने के बाद, एक केमिकल इंजिनियर की प्राइवेट या गवर्नमेंट सेक्टर, दोनों सेक्टर में ही भविष्य है |  हर ओइल प्लांट ,पॉवर प्लांट, थर्मल प्लांट आदि इंजीनियरिंग के क्षेत्र में केमिकल इंजीनियरिंग की आवश्यकता जरुर पड़ती है | इसी कारण से सदियों से व आने वाले समय में भी  केमिकल इंजीनियरिंग की डिमांड हमेशा ही रहती है | इसी लिये अधिकतर रासायनिक प्रेमी अपना भविष्य इस केमिकल इंजिनियर (Chemical Engineer)  में खोजते है |

Best Government companies for Chemical Engineering in india –

  • IOCL (Indian Oil Corporation Limted)
  • BPCL (Bharat Petroleum Corporation Limted)
  • HPCL  (Hindustan Petroleum Corporation Limted)
  • NFL (National Fertilizers Limted)
  • ISRO (Indian Space Resarch Organisation)
  • SAIL ( Steel Authirity of India)
  • GAIL (Gas Authority of India Limted)

Best Private companies for Chemical Engineering in india –

  • Tata Chemicals Ltd
  • UPL Limted (Chemical manufacturing)
  • Indian Pharmaceutical Manufacturing
  • Reliance Industries Limted
  • Laxmi Organics Limted
  • Asian Paints Ltd
  • Berger Paints india Ltd

Chemical engineer salary in india (केमिकल इंजीनियर को कितने रुपय मिलते है ?) –

केमिकल इंजीनियरिंग करने के बाद दोनों ही सेक्टर में आप एक अच्छा भविष्य बना सकते है | यदि हम गवर्नमेंट सेक्टर की बात करे | तो गवर्नमेंट सेक्टर में एक शुरुआत केमिकल इंजीनियर को शुरुआत में 30 से 40 हज़ार रुपए मिलते है | जो समय के साथ साथ और अनुभव पर यह आकड़ा 50  से 1 लाख रुपय महीने तक  का हो जाता है |

यदि प्राइवेट सेक्टर की बात करे | तो प्राइवेट सेक्टर में एक केमिकल इंजीनियर की शुरुआत sarely 20 से 25 हज़ार रुपय होती है जो अनुभव पर लाखो तक पहुच जाती है |

यह भी पढ़े :

Conclusion-

हम उम्मीद करते है की केमिकल इंजीनियर (Chemical Engineer) कैसे बनते है ? केमिकल इंजीनियर के लिये क्या योग्यता चाहिए होती है ? केमिकल इंजीनियर की salary कितनी होती है ? केमिकल इंजीनियर से सम्बन्धित सभी जानकारी इस article में आपको प्राप्त हो गयी होगी |

यदि आपको लगता है कि इस article में कुछ सुधार की आवश्यकता है तो हमे comment box में जरुर बताये | यदि आपका कोई भी सवाल है तो आप कमेंट बॉक्स में अपनी राय व सवाल पूछे |

यह article आपको अच्छा लगा हो अपने मित्र व बच्चो तक जरुर शेयर करे | ऐसे ही लाभकारी व ज्ञान को बढाने वाले article पढने के लिये, नीचे दी गयी घंटी से, हम से जुड़े रहे | अपना कीमती वक़्त देने के लिये बहुत बहुत धन्यवाद |

सफलता का मन्त्र :

  • अपने लक्ष्य की सम्पूर्ण जानकारी का होना |
  • हमेशा अपने लक्ष्य को पाने के लिये कड़ी मेहनत करते रहे |
  • सबसे जरुरी बात , खुद अपनी क़ाबलियत पर विश्वास रखे |
  • कभी भी निराश न हो |
  • अगर आप गलतियाँ कर रहे है , तो निराश बिल्कुल न हो , वल्कि ख़ुशी मनाये की आप कुछ नया जरुर सीख रहे है |
  • जो व्यक्ति कहता है , उसने अपने जीवन में कुछ गलतियाँ नहीं की , यकीन माने उसने अपने जीवन में कुछ नया नहीं सीखा |

चिंता व परेशान न हो यदि आप अपने करियर सम्बन्धित किसी भी समस्या से जुंझ रहे है | तो नीचे दिये कमेंट बॉक्स में हमे बताये |

हमेशा ध्यान रखे , उचित मार्गदर्शन से ही असंभव को संभव किया जा सकता है | हमसे अपनी समस्या व उलझाने साँझा करे | हम हर संभव मदद आपकी करेंगे |

आपके उज्जवल भविष्य के लिये हमारी टीम Everythingpro.in की तरफ से बहुत बहुत शुभकामनाएँ….

Please share your friends

Leave a Comment

शालीन की एक्स वाइफ दलजीत की दूसरी शादी शादी के बाद जीवन को स्वर्ग बना देती है ऐसी लड़कियां धोनी की वाइफ पोज देने में किसी एक्ट्रेस से कम नहीं लंबे ट्रेन के सफ़र को बनाये इस तरह मज़ेदार