मैं आखिर अपने गोल्स को पेपर पर क्यों लिखता हूँ ?

इस article के माध्यम से हम आप सभी से बताने की कोशिश करेंगे कि आखिर क्या होता है पेपर में लिखने से यह सही है या गलत | आखिर अपने गोल्स या आप अपनी जिंदगी में किस जगह अपने आप को देखना चाहते है |

उन सब चीजो को एक पेपर पर लिखना ज्यादा ठीक रहता है या अपने दिमाग में याद रखना | हम आज इसी टॉपिक पर बात करते है | मुझे लगा जो में करता हूँ वो आप सभी से शेयर करना चहिये | आप सभी का एक बार फिर Everythingpro.in के My Thinking में स्वागत है |

हम अपने सपनो को कैसे बार बार अपने आप से मिलवाये-

हम जहा तक जानते है लोग अपने गोल्स को 2 तरह से याद रखते है-

1-अपने दिमाग में याद रखकर

2-अपने गोल्स को पेपर में लिख कर

अपने दिमाग में याद रखकर-

मेरी इस टॉपिक पर रिसर्च करने पर मुझे यह मालूम चला कि जो व्यक्ति अपनी इच्छाओ को या अपने गोल्स को अपने दिमाग में रखते है | जैसे मुझे यह एग्जाम को पास करना है | या मुझे एक जॉब पानी है | जब भी हम अपने सपने के बारे में सोंचते है तो हमारा राइट ब्रेन एक्टिव हो जाता है |

हम अपने गोल्स को सिर्फ अपने दिमाग के एक भाग का ही उपयोग करते है | और हम अपनी इच्छाओ को तभी पूरा कर पाएंगे यानि हमारा दिमाग फुल एनर्जी हमे दे | यानि हमारे दिमाग के दोनों भाग काम करे | हमारे राइट व लेफ्ट हेंड दोनों एक साथ काम करेगा | तभी हम अपने गोल्स को पा सकते है |

हमने अपने गोल्स को अपने दिमाग में रखा तो हमारे दिमाग का सिर्फ एक भाग ही काम करता है यानि राइट ब्रेन |

अपने गोल्स को पेपर में लिख कर-

अब बात कर लेते है अपने गोल्स को पेपर पर लिखने से क्या होता है | जो में हमेशा करता हूँ | हमने यह देखा कि जब हम अपने दिमाग में जब अपने गोल्स को रखते है, उसके बारे में सोंचते है , मन में रखते है तो हमारे दिमाग का एक ही भाग एक्टिव होता है | पर जब हम अपने गोल्स को पेपर पर लिखते है तो हमारा लॉजिकल ब्रेन एक्टिव हो जाता है यानि लेफ्ट ब्रेन |

मतलब दिमाग का दूसरा भाग भी एक्टिव हो जाता है | क्योकि जब भी हम अपने गोल्स को एक पेपर पर लिखते है तो हमारे दिमाग में एक सिग्नल जाता है कि यह बहुत ही serious चीज है  तब ही हम उस चीज को एक पेपर में लिख रहे है |

जब हम अपनी इच्छाओ को सोंचते हुए लिख रहे है | तो हमारा सोंचने पर राइट ब्रेन एक्टिव हुआ और जब हम लिख रहे है तो हमारा लेफ्ट ब्रेन भी एक्टिव हो जाता है | और सिंपल सी बात है जब हमारे दोनों ब्रेन एक साथ काम करेंगे तो हमे वो उर्जा व वो शक्ति मिलती है जो सामन्य लोगो को नहीं मिलती | क्योकि वो सिर्फ सोंचते है और उस वक़्त सिर्फ दिमाग का एक ही भाग काम करता है |

यह भी पढ़े :

आखिर क्यों लिखना चाहिये अपने गोल्स को-

हम जब भी अपने दिमाग में अपने गोल्स को रखते है तो हमारे जीवन में सारी चीजे जो भी हर रोज हम करते है या हम करना चाहते है वो सब कुछ हमारा दिमाग ही ऑपरेट करता है | जिस वजह से कही न कही हम अपने गोल्स को अधिक ध्यान में नहीं रख पाते है | और कुछ दिनों बाद धीरे धीरे वो सभी गोल्स हमारे दिमाग से गयाब होने लगते है |

यदि हम अपने गोल्स को एक पेपर पर लिखते और उस पेपर को या नोट बुक्स को अपने पास रखते है तो वो पेपर हमे हर रोज हर पल याद दिलाता रहता है कि आखिर में हमारे गोल्स क्या है | और जब हम उस पेपर पर लिखे अपने गोल्स को देख कर, हमारे दिमाग को सिग्नल मिल जाता है और हमारा दिमाग एक्टिव हो जाता है और काम करने लगता है |

हमारे गोल्स दो टाइप के होते है-

1-Short Term Goals

2- Long Term Goals  

Short Term Goals-

short term गोल्स में हमे जैसे कुछ महीनो में पाने हो जैसे हमे अपने एग्जाम को पास करना है | क्लास में top करना है | या इस महीने हमे यह यह काम करने है | या अगले कुछ  6 महीने तक हमे यह अपने सभी गोल्स complete करने है | यह होते है short term गोल्स |

Long Term Goals –

 Long Term Goals में हम आने वाले कुछ 4-5 सालो में हम क्या achieve करना चाहते है | हम एक अच्छी सी जॉब पाना हमारा गोल्स है | या हमारा एक बड़ा सा business करना गोल्स है | या हम एक बड़ा अफ़सर बनना हमारा गोल्स है | यह सब होते long term गोल्स |

हमने इस article से क्या सीखा –

हमने आज आपको एक छोटा सा प्रयास किया है कि जो में करता हूँ वो आप सभी के साथ शेयर कर सके | ताकि आप भी अपने गोल्स को पाने के लिए जागरूक हो | इस article में सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि हमारे पास गोल्स होने चाहिए |

जब हमारे पास गोल्स ही नहीं होंगे तो हम उसको पेपर पर केसे लिखेगे | और जब हमारे पास गोल्स न हो तो हमारा दिमाग भी उस पर काम नहीं करता | और हम एक सामन्य जीवन जीते है जैसे पूरी दुनिया जैसे भेड़ चाल में चलते जाते हैं |

और एक बात कभी भी अपने गोल्स दूसरो को तब तक नहीं बताना जब तक आप अपने गोल्स को हासिल न कर लो |

हम उम्मीद करते है यह article भी कुछ नया सिखने को मिला होंगा | अपना प्यार व विश्वास बनाये रखे | ऐसे ही मोटीवेट व interested article पढने के लिए नीचे दिए bell icon को प्रेस करे | जिससे हर article आप तक पहुचे | आप सभी का बहुत बहुत धन्यवाद |  

1 thought on “मैं आखिर अपने गोल्स को पेपर पर क्यों लिखता हूँ ?”

Leave a Comment