तुरंत छोड़ दे यह एक चीज , जिंदगी में कभी भी नहीं होगा दुःख, सुख में बीतेगा जीवन

आचार्य चाणक्य ने अपनी चाणक्य निति शास्त्र महत्वपूर्ण कई ऐसी बातों का विस्तार से उल्लेख किया है | जो यदि हर व्यक्ति इन बातों व निति का पालन करे | तो उसका जीवन सुखद हो सकता है |

Chanikya Niti for life –  हर व्यक्ति अपने जीवन में ख़ुश रहना चाहता है | पर जीवन में धीरे – धीरे कई अनेक ऐसा पड़ाव आते है जिसमे व्यक्ति दुःख में घिर जाता है और लाख प्रयास करने के बाद भी व्यक्ति उस दुःख से बहार निकलने में असमर्थ रहता है |

सुखी जीवन व्यतीत करने के लिए हर व्यक्ति को कुछ बातों का वेशेष ध्यान देना चाहिए | वरना यह गलतियाँ आपके पूरे जीवन को दुःख से भर सकती है |

मोह से रहे दूर –                  

चाणक्य निति शास्त्र के अनुसार हर व्यक्ति को अपना जीवन को सुखी बनाने के लिए मोह को त्यागना सीखना चहिये | चाणक्य निति शास्त्र के अनुसार जिस व्यक्ति को जिस चीज से सबसे अधिक स्नेह होता है | वो ही चीज उसके दुखों का सबसे बड़ा कारण होता है |

सुख रहने के लिए किसी भी व्यक्ति को किसी पात्र या इंशान से अधिक मोह नहीं रखना चाहिए | यदि आप किसी चीज या इंसान को एक हद से ज्यादा प्रेम करते है तो यह आपके दुःख का मुख्य कारण होता है |

अधिक से ज्यादा मोह इंसान को दुःख पीणा , तकलीफ़ दर्द के सिवाय कुछ भी नहीं देती है | यदि कोई भी चीज या  आपको हद से ज्यादा मोह या प्रिय है और दुर्भाग्य से वो चीज या व्यक्ति आपको नहीं मिला |

तो यह दुःख दर्द तकलीफ़ आपको जीवन भर दुःख देगा | यह दुःख दर्द अशेनीय होता है जिस व्यक्ति पर गुजरती है इसका अनुमान सिर्फ और सिर्फ वो ही व्यक्ति लगा सकता है यह दर्द आपको जीवन पर अशेनीय तखलीफ़ देता है |

इसीलिए चाणक्य निति के अनुसार हर व्यक्ति को मोह से बचना चाहिए | अत्यदिक प्रेम और स्नेह ही आपके दुःख का कारण होता है | जीवन में सुखी जीवन व्यतीत करने के लिए मोह को त्यागना चाहिए |

ऐसे ही लाभदायक जानकारी के लिए पेज को रिफ्रेश कर के ज्वाइन टेलीग्राम से जुड़े | जिससे हर फायदेमंद जानकारी आप तक पहुचे | आपका दिन मंगल हो ….. जय श्री राम  

यह भी पढ़े :

Please share your friends

Leave a Comment

शालीन की एक्स वाइफ दलजीत की दूसरी शादी शादी के बाद जीवन को स्वर्ग बना देती है ऐसी लड़कियां धोनी की वाइफ पोज देने में किसी एक्ट्रेस से कम नहीं लंबे ट्रेन के सफ़र को बनाये इस तरह मज़ेदार