7 वी पास शक्स का 35 रुपए से 13 करोड़ तक का सफर-

हम अपने हर article में आप सभी स्टूडेंट व मेहनत करने वाले युवाओ से कहते रहते है कि हमे किसी भी मंजिल पर पहुचने से पहले सबसे जरुरी होता शुरुआत करना | 

माया नगरी मुंबई –

मुंबई ऐसा शहर है जहाँ हमने बचपन से सुना है कि यदि इन्सान मेहनत करने वाला है तो बदले में मुंबई शहर उनके सपनो से रुबहरू करा ही देती है व शर्त है अपनी मेहनत पर विश्वास होना |

आज की success story ऐसे शक्स की है जिन्होंने अपने सपनो की शुरुआत का सफर सिर्फ 35 रुपय से शुरू किया और आज करोड़ो रुपय का टर्न ओवर है |

आप सभी का एक बार फिर Everythingpro.in के success में स्वागत है | हम उम्मीद करते है यह success story भी युवाओ में उत्साह व उनके गोल्स को पाने के लिये प्रेरित करेगी |

माया नगरी मुंबई जहाँ हजारो लोग अपने सपनो को पूरा करने आते है ऐसे ही अपने सपनो को पूरा करने आये Veeral Patel जो गुजरात से मुंबई सिर्फ अपनी ज़ेब में 35 रुपय लेकर मुंबई की जमीन पर पैर रखा |

Veeral patel

वीरल पटेल का जन्म गुजरात के कछ जिले में हुआ | उनके पिता जी खेती कर के अपने परिवार का हरण पोषण करते | गरीबी के चलते वीरल पटेल की पढाई सिर्फ 7वी तक ही हो सकी | हालात और गरीबी के चलते , न चाहते हुए भी वीरल पटेल के पिता आगे पढ़ाने में असमर्थ थे | और उन्होंने वीरल से पढाई को आगे बढ़ाने के लिये मना कर दिया |

वीरल पटेल ने अपने पिता जी से 100 रुपय लिये | और निकल पड़े माया नगरी की ओर | वीरल पटेल उस वक़्त उन्होंने नही सोचा की उन्हें क्या करना है बस पिता जी के दिये हुए 100 रुपय व 2 जोड़ी कपडे लेकर निकल पड़े शहर की ओर |

पिता जी के 100 रुपय में से वीरल पटेल ने 65 रुपय की ट्रेन की टिकट ली | वाकी के 35 रुपय के साथ माया नगरी मुंबई में प्रवेश किया | मुंबई पहुचने पर उनके परिचित रिश्तेदार के यहाँ वो कुछ दिन रहे और उन्होंने वीरल पटेल को एक छोटी सी कॉपी किताबो की शॉप पर लगवा दिया |

वहाँ वीरल पटेल झाड़ू, साफ सफाई , कॉपी किताबे उठाने रखने आदि का काम करते | क्योकि कम उम्र का लड़का पहली बार शहर आया | अपने घर परिवार से हालातो और गरीबी ने दूर रहने के लिये मजबूर किया |

जब वीरल पटेल शॉप में झाड़ू पोछा लगाते और छोटी उम्र के कारण घर की यादे अक्सर उनकी आंखो को भीगा दिया करती | उनकी आँखों से निकलने वाले आंसु कब पोछा लगाने वाले पानी में मिल जाते, यह पता ही नहीं लगता |

वीरल पटेल जी ने जिस शॉप में काम मिला | उस शॉप के मालिक ने बोला यदि तुम 6 महीने फ्री में काम कर सको, तो तुम्हारा खाना और रहना फ्री | वीरल पटेल ने हाँ किया और बिना रुपय के 6 महीने काम किया | इस शर्त पर की उन्हें खाने और रहने की जगह मिल गयी |

6 महीने बाद उन्हें उस शॉप के मालिक उन्हें 250 रुपय पगार के रूप में देने लगे | यह वक़्त 1983 का था | 250 रुपय महीने के, वो अपने गाँव में अपने पिता जी को दे दिया करते | ताकि खेती करने में थोड़ी मदद मिल सके | वीरल पटेल ने 5 साल तक छोटा मोटा काम किया |

One think the change life in Hindi ( E-book )

अगर आप अपने जीवन में सफल व बहुत पैसे कमाना चाहते है | तो यह E-book आपकी पूरी जिन्दगी बदल सकती है | आपने अक्सर सुना होगा कि एक सफल व्यक्ति बुक्स जरुर पढ़ता है | क्योकि बुक्स हमे ऐसी सीख देती है जो अनमोल होती है | इस E- Book में ऐसे सीक्रेट बिज़नस की सम्पूर्ण जानकारी दी गयी है | जो बेहद ही कम लोगो को जानकारी है |

बहुत कम निवेश में सिर्फ 5 से 10 रुपय के निवेश में आपको कुछ ही महीने में 50 से 90 हज़ार तक कमा के दे सकता है | इस ई –बुक ने कई लोग की जिंदगी बदली है | और आगे भी बदलेगी | इस ई-बुक से खुद हम लाखो रुपय कमा रहे है | दोस्तों 199./- रुपय बेहद ही छोटी रकम होती है जो अक्सर लोग खाने पीने में खर्च कर देते है |

पर यह 199./- रुपय की छोटी सी रकम आपके पूरी जिंदगी को बदल सकती है | साथ ही इस ई – बुक को खरीदने वाले लोगो को एक अवसर प्राप्त होगा | जिसमे वो जीरो इन्वेस्टमेंट के साथ घर से लाखो रुपय कमा सकते है |

आज यह 199./- रुपय आपके आने वाले भविष्य या सफलता पर निर्भर करता है | आप स्टूडेंट्स, हाउसवाइफ, किसी भी उम्र का व्यक्ति हो | चाहे वो जॉब या कोई बिज़नस भी करता हो | उसके बाद भी आप इस ई – बुक में बताये गयी बातो से अपना जीवन को नये शिखर पर लाया जा सकता है |

इस 199./- रुपय रकम से अधिक फोन के रिचार्ज हो जाते है | पर बहुत कम लोग अपने जीवन को बदलने के लिए इन्वेस्ट करते है | यह 199./- रुपय कि इन्वेस्टमेंट आपको जिंदगी भर लाखो रुपय रिटर्न कर के दे सकती है |

आज निर्भर आप पर करता है इस छोटी रकम से अपने जीवन को परिवर्तित करना चाहते है या जिस तरह जीवन वितीत कर रहे है वेसा ही करना चाहते है | अपने आप से एक बात अवश्य पूछे जो काम आज आप कर रहे है क्या उस काम से आपके सभी सपने पूरे हो सकते है यदि जबाब आये हाँ तो आपको इस ई – बुक खरीदने की आवश्यकता नहीं है और यदि जबाब आये नहीं तो आप को पता है क्या करना है ?

 हमारी एक्सपर्ट व बिज़नस एडवाइजर ने ऐसे बिज़नस के बारे में बताया गया है जिन्होंने ई – बुक का मूल्य 999./- रुपय रखा गया | पर स्टूडेंट्स को ध्यान में रखते हुए यह 999./- रुपय एक स्टूडेंट व निम्न स्थर के व्यक्ति के लिये बेहद ही अधिक हो सकते थे |

इसलिए हमारी टीम ने सिर्फ़ 199./- रुपय रखा जिससे हर स्टूडेंट्स अपनी मंजिलो के रास्ते को देख सके व जीवन में बेहद ही सफल हो सके | ई-बुक अभी 50% डिस्काउंट में मिल रही है |

यानी अभी आप इस ई –बुक को खरीदते है तो सिर्फ 99./- रुपय में यह ई –बुक आपको प्राप्त हो जायेगी | जरा विचार करे यह 99./- रुपय कितनी छोटी रकम है जो आपको महीने के लाखो रुपय के रिटर्न के रूप में देगी | Amazon पर सर्च कर के  या नीचे दिये Buy Now E-Book से ई – बुक खरीदे |

Buy Now E-Book

पंखो को मिली थोड़ी उड़ान-

वीरल पटेल जी के दूर के रिश्तेदार ने मुम्बई की अंधेरी में एक शॉप खोली | जिसमे उन्होंने वीरल पटेल को पार्टनरशिप करने का अवसर प्रदान किया | जो वीरल पटेल के लिये करना बहुत ही अधिक महत्वपूर्ण था |

इस पार्टनरशिप शॉप से वीरल पटेल जी को धीरे-धीरे मार्किट की जानकारी होना शुरू हो गयी | और करीब 3 वर्ष तक पार्टनरशिप करने के बाद , वीरल पटेल ने मेहनत करके पैसा जमा कर, खुद की किराना शॉप खोली | जो उनकी मेहनत व भगवान के आशीर्वाद से , वीरल पटेल ने जितना सोंचा था उससे कई अधिक उस शॉप का रेस्पोंस आया | और वो एक  अच्छी कमाई करने लगे |

मीठास ने किये सपने सच –

www.everythingpro.in

कहते है जब ज़ेब में पैसा आता है तो दिमाग दोगुना फ़ास्ट हो जाता है | हमारे पास नये नये आईडिया आने लगते है | पैसा और अधिक कैसे कमाये हम विचार करने लगते है | हम उस पर काम करने लगते है |

 कुछ ऐसा ही हुआ वीरल पटेल के साथ भी | अपने मित्र के सुझाव से वीरल पटेल ने Sweets की शॉप खोलने का विचार किया | और कुछ सालो तक छोटे ही स्थर से मिठाई की शॉप से शुरुआत की | धीरे-धीरे कुछ साल बीते और अपनी सालो की मेहनत से कमाई को बहुत बड़े स्थर पर इन्वेस्ट करने का विचार किया | क्योकि वीरल पटेल भले ही अधिक पढ़े लिखे नहीं थे | पर उन्हें यह बात अच्छे से पता थी यदि बड़ा आदमी बनना है तो खतरा भी बड़ा उठाना पड़ेगा |

सफलता-

www.everythingpro.in

वीरल पटेल ने 2005 में 30 लाख के बड़े इन्वेस्टमेंट के साथ Veeral got into retailing sweets and snaks  के नाम से बड़ी शॉप खोली | जिसमे नमकीन व मिठाई से शुरुआत की | जब एक sweets शॉप से अच्छा रेस्पोंस मिलना शुरू हुआ | तो वीरल पटेल ने दूसरी ब्रांच खोलना शुरू की | धीरे-धीरे अलग-अलग जगह बड़ी कई ब्रांच खोलना प्रारंभ किया |

www.everythingpro.in

जिसमे वो आज 300 से भी अधिक प्रकार की मिठाईयां उपलब्ध है |वीरल पटेल बताते है कि आज उनकी कई ब्रांच से सालाना 13 करोड़ का टर्न ओवर है | जो वाकई काबले तारीफ है |

हमने आज इस article से क्या सीखा-

इस article से सीख मिली, यह जरुरी नहीं कि यदि कोई व्यक्ति अधिक शिक्षित नहीं है तो वह सफल नहीं हो सकता | जरुरी यह है कि खुद की मेहनत और खुद के विश्वास पर भरोसा रखना |

वीरल पटेल जी के हालात ऐसे थे कि वो अपनी पढाई को छोडकर शहर गये | यह हम पर निर्भर करता है कि हमे अपने हालातो को देख कर कमजोर पड़ना है या उन हालातों से अपने आप को मजबूत बनाना है |

इस article के लास्ट में एक बात और कहना चाहूँगा कि मेहनत सब करते है पर असली मेहनत वो है हम जिस हालात में है अभी, चाहे हम गरीबी में हो, चाहे हमारे पास अधिक साधन न हो…. हम जिन भी हालातो में हो , पर ध्यान रहे हमेशा हमे … जिस प्रकार रात जाने के बाद एक नया दिन आता है उसी प्रकार वक़्त भी ठहेरता नहीं है , हर किसी का बदलता है | आज बुरा वक़्त है तो कल अच्छा जरुर आयेगा व शर्त है धेर्य की | उन हालातो को अपनी ताक़त बनाये |

उन हालातो से हमारे लक्ष्य पर, कोई भी प्रभाव न पड़ सके | हम विचार करे इन हालातो में हम अपने आप को केसे, क्या करके अपने आप को स्थर रख  सकते है | यदि मैं कम शब्दों में कहू तो हमारे हालात , हमारे लक्ष्य पर हावी न हो सके |  यदि आप अपने हालातो पर काबू करना सीख गये | तो विश्वास है हमे आप अपने जीवन में एक अच्छे मुकाम पर होंगे |  

उमीद करता हूँ यह article आपको पसंद आया होगा | ऐसे ही interestedmotivate article पढने के लिये नीचे दिये Bell icon को प्रेस करे | अपनी राय कमेंट बॉक्स में जरुर दे | आप के द्वारा दिया हुआ हर एक शब्द हमे प्रेरित करेगा | जिससे हम नये उत्साह व जोश के साथ एक नया article लिखने के लिये प्रेरित होंगे | अपना कीमती वक़्त देने के लिये बहुत बहुत धन्यवाद |

Please share your friends

2 thoughts on “7 वी पास शक्स का 35 रुपए से 13 करोड़ तक का सफर-”

Leave a Comment

error: Content is protected !!