रिक्शा चालक का बेटा बना IAS अफ़सर –

यदि इन्सान के अंदर कड़ी मेहनत करने की लगन हो व तैयार हो तो वो इन्सान हर मंजिल को हासिल कर सकता है | आज में यह article के माध्यम से आप सभी को बताने की कोसिस कर रहा हूँ | कि एक इन्सान ने गरीबी व अनेक मुश्किलें सहन कर के आईएएस अफ़सर बनने का सफर तह किया | गोविन्द (Govind jaiswal)

रिक्शा चालक पिता की कड़ी मेहनत-

यह आज मोटिवेट स्टोरी है एक रिक्शा चालक के बेटे गोविन्द जयसवाल की | गोविन्द (Govind jaiswal) का जन्म 8 अगस्त 1983 में वनारस में ही हुआ | गोविन्द के पिता जी जो की गरीबी के कारण वस पढ़ न सके पर अपने बेटे को जरुर पढाया | गोविन्द के पिता जी एक रिक्शा चालक थे |

जो चाहे बारिस हो या सर्दी या गर्मी पर वो अपने परिवार के लिए रिक्शा चलाते ताकि शाम की रोटिया खा सके | व अपने परिवार का हरण पोषण कर सके | गोविन्द का परिवार, जो की वनारस की छोटी सी गलियों में एक छोटे से कमरे 12/8 के कमरे में रहने वाला गोविन्द का परिवार बड़ी मुश्किलों से अपना गुजारा कर पाता था |

गोविन्द अपने परिवार में सबसे छोटे थे | उनकी तीन  बड़ी बहने व माँ और पिता जी रहते थे | इस छोटे से कमरे में ही गोविन्द व उनका परिवार का सामान व खाना पीना सभी चीजे इस 12/8 के छोटे से कमरे में ही होता | गोविन्द जिस जगह रहते थे वो जगह बहुत सोल-गुल वाली थी जहा अनेक प्रकार की आवाजे आया करती थी |

जिस कारण से उन्हें पढाई में बहुत दिक्कत आया करती | जिसको वो खिडकियों पर पर्दे लगा कर और अपने कानो में रुई लगाने के बाद अपनी पढाई को पूरा करते |

गोविन्द ने गरीबी को बहुत करीब से देखा है जिसको उन्होंने इस गरीबी को अपनी पढाई पर कभी भी हाबी नहीं होने दिया | गोविन्द क्लास 8 से ही बच्चो को पढ़ाते थे | और पिता रिक्शा चला कर अपने परिवार का हरण पोषण करते | इस मोहल में रहने के बाद गोविन्द को दुनिया के ताने भी सुनने को मिलते |

लोग गोविन्द से कहते की तुम कितना भी पढ़ लो | चलाना आखिर रिक्शा ही है | पर गोविन्द ने थान लिया था की वो एक दिन जरुर इस दुनिया का मुह अपनी मेहनत व लगन से बंद कर देंगे | और आखिर में किया भी |

कड़ी मेहनत-

जब अधिक शोर होता तो गोविन्द के अनुसार वो अपने कानो में रुई लगा के पढ़ते व अधिक शोर में वो मैथ लगाते व कम शोर में वो अन्य विषय पर ध्यान देते | रात में कई कई घंटो तक बत्ती का आना उनकी पढाई में रूकावट पैदा करता | जिससे बचने के लिए गोविन्द अक्सर मोमबत्तिया , डीबे में बत्ती डाल कर जला कर वो अपनी रात गुजारा करते |

12वी के बाद इंजीनियरिंग को बनाने की सोंची, अपनी सफलता का पथ-

गोविन्द शुरू से ही पढाई में नपुर थे व विज्ञान व मैथ्स उनके पसिंदा विषय थे | इस वजह से उनके चाहने वाले लोगो ने उन्हें इंजीनियरिंग करने की सलाह दी | परन्तु गरीबी के कारण वो इंजीनियरिंग न कर सके | और वनारस यूनिवर्सिटी से बीएससी की पढाई पूरी की | जहा पर उन्हें 10 रुपय की मासिक फीस देने पड़ती |

वो दिल्ली की महंगाई-

गोविन्द अपने आईएएस अफ़सर बनने के सपने के लिए काफी लगन से पढाई कर रहे थे व उसके बाद वो अपनी पढाई के लिए दिल्ली चले गये | जहा उन्होंने बहुत कड़ी मेहनत की | पर दिल्ली की महंगाई उन्हें बहुत पीड़ा दे रही थी |

पिता रिक्शा चला कर गोविन्द को पढाई के लिये पैसे देते | पर कहते हेना यह जिंदगी कदम कदम पर इम्तांह लेती है | गोविन्द के पिता जे के पैर में इन्फेक्शन हो गया जिस कारण वश वो रिक्शा न चला सके | जिसके लिए उन्हें अपनी थोड़ी सी जगह भी बेचने पड़ी व गोविन्द को पढाई में कोई समस्या न आये |

गोविन्द को यह बात बताई भी नहीं गयी | उनके पिता जी का कहना था की वो नहीं चाहते थे कि उनके कारण गोविन्द के आईएएस अफ़सर बनने के सफर में रुकावट हो |

पिता की मेहनत व गोविन्द की लगन लाई रंग-

गोविन्द के पिता ने बड़ी मुश्किलो से दिन रात रिक्शा चला कर गोविन्द को पढाया और गोविन्द ने भी अपनी मेहनत व विश्वास से किसी को निराश नहीं किया | और 2006 में मात्र 24 वर्ष में अपने पहले ही प्रियास में सिविल सर्विसेज परीक्षा में 474 सफल लोग में 48 वा स्थान ला कर | गोविन्द ने अपनी व अपने परिवार की जिन्दगी हमेशा हमेशा के लिए बदल दी |

हमने इस article से क्या सिखा-

हम ने इस article के माध्यम से आप सभी को बताने का प्रियास किया है कि परिस्थतियाँ कैसी भी हो हमे अपने लक्ष्य से ध्यान नहीं हटाना चाहिए | गोविन्द की मेहनत ने उन्हें एक नये मुकाम पर खड़ा कर दिया |

गोविन्द देश के अन्य युवाओ के लिए एक आइडियल है जो अपने लक्ष्य के प्रति जी तोर मेहनत कर रहे है | जो युवा इस article को पढ़ रहा है उनसे में कहना चाहुंगा कि मेहनत इतनी खामोशी से करो, की कामयावी शोर मचा दे…

यह article आप सभी को पसंद आया हो अपने मित्र तक जरुर शेयर करे | अपने अपने विचार comment बॉक्स में जरुर दे |bell icon से हमारे पोर्टल को follow करे | जिससे हर अपडेट आप तक पहुचे | आप सभी का बहुत बहुत धन्यवाद

Leave a Comment