कुल्लू (kullu) का यादगार सफर-

हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला से 240 किलोमीटर दूर व्यास नदी के तट पर स्थित इस कुल्लू (kullu) पर्यटन-स्थल को देख कर ऐसा लगता है कि ईश्वर ने इस प्राकृतिक सोंदर्य मुक्त हस्त से दिया है |

अपने कर्णप्रिय स्वर से घाटियों में संगीत घोलते झरनों, छोटी-मोटी वादियों, हरे-भरे मैदानो, चरागाहो , सेब के बागों आदि के कारण यहाँ का आकर्षण कई गुना बढ़ जाता है |

Note: If you access our website from another country. so tap on the menu and select your country language.

कुल्लू (kullu) कुछ प्रमुख नगरो से दूरी-

  • धर्मशाला – 213 किलोमीटर
  • शिमला – 220 किलोमीटर
  • चंडीगढ़ – 270 किलोमीटर
  • दिल्ली – 520 किलोमीटर

कुल्लू (kullu)जाने का बेहतर समय-

कुल्लू व मनाली घूमने के लिए सर्दियों में सितंबर के अंत से फरवरी के मध्य तक व गर्मियों में अप्रैल के मध्य से जून के मध्य तक का समय बेहतर रहता है | यदि आपको बर्फबारी का लुफ्त उठाना चाहते है तो जनवरी की  शुरुवात में जाकर बर्फबारी का आनंद ले सकते है |

कुल्लू (kullu) में देखने के लिये प्रमुख स्थल-

ढालपुर मैदान –

शहर में ही स्थित यह मैदान अपनी हरियाली और सुन्दरता के कारण इतना प्रसिद्ध है कि यहाँ घंटो बैठे रहने के लिये लोग दूर दूर से आते है |

रघुनाथ मंदिर –

ऐतिहासिक द्रष्टि से महत्वपूर्ण यह मन्दिर ढालपुर मैदान से महज एक किलोमीटर दूर है | यहाँ कि काष्ठकला बहुत ही उन्नत और प्रसिद्ध है

नग्गर-

व्यास नदी के तट से लघभग 290 मीटर की उचाई पर स्थित इस स्थान से कुल्लू घाटी के एक अति सुंदर प्राकृतिक सोंदर्य का अवलोचन अच्छी तरह से किया जा सकता है | दूर- दूर तक फैले पहाड़ , ऊँचे-ऊँचे पेड़ , पक्षियों की आवाज , कुल मिलकर यह मनोरम द्रश्य मन को बहुत अधिक प्रसन्न करने वाला होता है |

यहाँ (नग्गर में ही ) प्राचीन काल में निर्मित एक महल भी है |

रोरिक आर्ट गेलेरी –

विश्व प्रसिद्ध चित्रकार और मूर्तिकार निकोलस रोरिक के नाम पर स्थापित इस आर्ट गेलेरी में उन (रोरिक) की कलाकिर्तिया मोजूद है जो पर्यटकों को प्राचीनकाल की कला देखना बेहद पसंद आती है | यह गेलेरी नग्गर से मात्र एक किलोमीटर दूर है |

बिजली महादेव मन्दिर-

कुल्लू से 14 किलोमीटर दूर लघभग 2500 मीटर की ऊंचाई पर बने इस प्रसिद्ध मन्दिर के पास से कुल्लू घाटी और पार्वती घाटी के दृश्य का बेहद ही सुंदर नजारा होता है | मानो जैसे स्वर्ग का नजारा हो |

रायसन-

घुमने – फिरने और कैपिंग के लिए उपयुक्त यह जगह कुल्लू से 16 किलोमीटर दूर लघभग 1500 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है | इस अत्यंत सुंदर जगह के चारो तरफ हरे-भरे सुंदर बगीचे है | जिनमे सेब ,प्लम , खुबानी , आडू आदि फलो व फूलो के बगीचे है | होली के बाद जब इन सभी पेड़-पोधो में फूल आते है तो यहाँ की सुन्दरता में और अधिक  वृद्धी हो जाती है |

यहा ठेरने के लिये पर्यटन विभाग द्वारा व्यास नदी के तट पर लकड़ी की कुछ सुंदर झोपड़ियो का निर्माण कराया जाता है | जो नवविवाहित दंपतियों को अधिक प्रिय लगते है | जो यहा पर बीताये पल उनकी जिन्दगी के काफ़ी अच्छे पालो में से होते है |

यहां भी घुमने जाये –

कुल्लू (kullu)पहुचने के साधन-

फ्लाइट-

कुल्लू पहुचने के लिये हवाई जहाज द्वारा कुल्लू मनाली एअरपोर्ट जो की भुंतर में स्थित है |  दिल्ली से कुल्लू के लिये हर दिन एयरलाइन्स की फ्लाइट मोजूद है | जिसकी शुरुआत फ्लाइट का किराया 5000 से 6000 रुपय प्रीत व्यक्ति आयेगा |

ट्रेन-

यदि आप ट्रेन से कुल्लू जाना चाहते है | दिल्ली से कुल्लू का ट्रेन से सफर लघभग 16 घंटे का सफर है | जो कि दिल्ली से कुल्लू तक ट्रेन से दूरी लघभग 540 किलोमीटर है |  आप दिल्ली से हर रोज कुल्लू के लिये कई ट्रेन जाती है | जिसमे से कालका शताब्दी , हिमालयन क्वीन , पश्चिम एक्सप्रेस, हावड़ा दिल्ली कालका मेल आदि है |

नोट : यदि आप दिल्ली से कुल्लू के लिये ट्रेन से सर्दियों में अपने पूरे परिवार के साथ सफर तह करते है और साथ ही हर स्टेशन के गर्म चाय और पकोड़े के साथ आपका सफर और रंगीन बना देता है | जिसका शयद आनंद आप फ्लाइट में नहीं ले सकते |

अपना वाहन-

अपना वाहन अपना ही होता है और यदि परिवार के साथ या नये शादी के जोड़े अपने वाहन से जाये तो सफर बहुत ही रोमांचक व मधुर हो जाता है | दिल्ली से कुल्लू तक अपने वाहन से 12 घंटे की दूरी तय होती है | दिल्ली से पानीपत , सोनीपत कुरुक्षेत्र के रास्ते होते हुये कुल्लू पहुचा जा सकता है | रास्ते में आपको कई प्रकार के ढाबे खाने के लिये मिल जायंगे | जिनका भी लुफ्त लेकर अपने सफर को और हसीन बना सकते है |

कुल्लू (kullu) में ठहेरने के लिये होटल-

आप जब यहा कुल्लू में आ जाते है तो यहा अनेक सुंदर होटल व रिसोर्ट है जो बेहद सुंदर है जो आपके सफर को और अधिक रंगीन बना देते है |

कुल्लू में हर दर्जे के होटल है | उनमे से प्रमुख है – सिद्धार्थ (अखाडा बाजार) , वैशाली (गाँधी नगर ) , न्यू केलाश (अखाडा बाजार) , अरोमा क्लासिक (ढालपुर) अदि |

हम उम्मीद करते है यह article आपको पसंद आया होगा | अपने मित्र व परिवार के लोगो तक शेयर करे | व यदि आप कुल्लू गये है या जाने वाले है तो अपनी राय कमेंट बॉक्स में जरुर दे | ऐसे ही रोमांचक ट्रिप पर जाने के लिये नीचे दिये bell icon से हमसे जुड़े | जिससे हर जानकारी आप तक पहुचे | आप सभी का बहुत बहुत धन्यवाद |   

Please share your friends
  • 1
    Share

Leave a Comment

error: Content is protected !!