Internet क्या है? आख़िर इंटरनेट बनाया किसने ?

Internet क्या है? internet आज एक ऐसा शब्द है जो हम सब के जीवन में बहुत महत्वपूर्ण है जो किसी न किसी रूप में हम सब से जुड़ा है|

जिसके बिना आज हर काम असंभव सा लगता है |आज की दुनिया में internet के बिना कुछ भी संभव नहीं है |

यह internet हमारे जीवन में इतना मुख्य किरदार निभा रहा है की आप internet की महत्वता यही से समझये की घर से लेकर ऑफिस तक , स्कूल collage तक हर जगह internet हमे किसी न किसी रूप में मिल ही जाता है | internet हमारे जीवन पर पूर्ण रूप से हाबी हो चुका है |

आज इन्सान बिना बिजली ,बिना पानी , बिना खाये, बिना सोये रह सकता है पर internet के बिना नहीं रह सकता | जब internet हमारे जीवन में इतना महत्वपूर्ण है |

क्या हमने कभी सोचा है की जिस internet के बिना हमारा कोई भी काम नहीं होता वो internet क्या है ?, internet किसने बनाया ?, internet कब ऑर किस वर्ष बनाया गया ?, internet बनाने का मकसद क्या था ? आज यह सारे जबाब आपको हमारे इस article को पढ़ते-पढ़ते मिल जायेंगे व हम ऐसी उम्मीद करते है की यह आपकी knowledge को और ज्यादा बढाएगी|

आएये जानते है इन सब के बारे में – इस युग को सूचनाओ का युग कहा जाता है | आप भले ही संसार के किसी भी कोने में बेठे हो , मान लिया आप भारत में बेठे है ऑर आपको अन्य किसी देश जैसे- अमेरिका , रूस ,इटली ,जापान आदि किसी जगह की जानकारी चाहिए तो आप internet के माध्यम से अपने कमरे में बेठे बेठे जानकारी प्राप्त कर सकते है |

आप को संसार भर से सूचनाओ को एकत्र करने के लिए वहा जाने की आवश्यकता नहीं है |यह कार्य आप internet के माध्यम से सूचना को प्राप्त कर सकते है |केवल आपको computer व smartphone के साथ internet connection की जरुरत होती है |यह article भी आप internet होने के कारण ही पढ़ पा रहे है |

internet दुनिया के बहुत ही बड़े network का जाल है या simple भाषा में बोलू internet कई network का एक network है | देश दुनिया के छोटे- बड़े अनेक network को एक साथ जोड़कर रखने को network कहते है |

यह एक ग्लोबल कंप्यूटर नेटवर्क होता है जो आपस में inter connect होते है जो कई प्रकार की सूचनाये प्रदान करता है | यह एक बहुत बड़े जाल की तरह होता है जो inter connected network को साथ में जुड़े रहने के लिए standardized communication protocols का इस्तमाल करते है |

इसी जाल को internet की भाषा में media या transmission media कहा जाता है | जो data के रूप में दुनिया भर में जैसे text, image, audio, video के रूप में चक्कर लगाता रहता है |आज internet के कई मिलियन कंप्यूटर व उपयोग कर्ताओ का network है |

internet की परिभाषा-

सरल भाषा में internet सूचना को आदान-प्रदान का एक विश्व कंप्यूटर network है , जो अन्य network को सर्वर के माध्यम से आपस में जोड़ता है ऐसे network को internet कहते है |

internet की शुरुआत कैसे हुई ?

internet की शुरुआत एक दिलचिस्प काहनी से शुरु हुई | इसकी शुरुआत 1957 (cold war ) से हुई |सोवियत संघ ने दुनिया का पहला इन्सान के हाथो द्वारा बनाया गया satellite lunch किया गया था जिसका नाम sputnik 1 रखा गया|

इस satellite को sergei korolev (सेर्गेई कोरोलेव) ने इस satellite को डिजायन किया था | सोवियत संघ के द्वारा बनाया गया यह पहला satellite था जिसकी खबर दुनिया में आग की तरह फेल गयी| यह खबर अमेरिका के पास भी पहुची | जिससे अमेरिका को काफी हेरानी हुई क्योकि अमेरिका भी कई वर्षो से दुनिया का पहला मानव निर्मित  satellite बनाने में लगा हुआ था |

इस वजह से दोनों देशो में नोंक – झोंक शुरु हो गयी , दोनों देशो में एक cold war शुरु हुआ | 1957 में अमेरिका के president Dwight D.Eisenhower थे | जिनने सोवयत संघ के साथ हुई नोंक झोंक के बाद 1958 में एक agency की नीव रखी| जिसका नाम ARPA पूरा नाम Advanced Research Project Agency था जिसका काम देश की तकीनीकी ताकत को और बढ़ाना था |

इस agency के नाम में समय के साथ साथ इस के नाम में भी परिवर्तन हुआ | 1972 के लघभग  इसका नाम ARPA से DARPA (Difence Advanced Research project agency) कर दिया | इस agency की शुरुआत करने की अमेरिका के president की  यह मंशा थी की हमारे देश की तकनिकी शिक्षा को ऑर देशो के मुकाबले और आगे बढ़ाना |

आगे यह agency अपने नये नये प्रियोग पर काम करने लगी व ऑर अधिक विकशित होने लगी परन्तु multiple computer को एक साथ काम न करने की समस्या उन के काम में बांधा दाल रही थी agency यह चाहती थी क्यों न कुछ ऐसा तैयार किया जाये जिसके जरिये बहुत सारे computer को एक network पर चलाया जा सके|

Internet को बनाने में किसी एक आदमी को श्रय देना गलत होगा इसमें कई महान engineer व scientist का योगदान रहा है जिन्होंने आज हमारे जीवन को सरल बना दिया है | जिनमे मुख्य Vint Cerf और Robert E.Kahn थे |

Left Vint Cerf and right Robert E Kahn

वाये Vint cerf व दाये Robert E Kahn है |जिन्हें father of internet के रूप से भी जाना जाता है | agency ने काम शुरु कर दिया ऑर उन्हें इस कार्य में भी सफलता प्राप्त हुई जिसमे उन्होंने चार अलग अलग कंप्यूटर को एक network से जोड़ा गया उस network का नाम ARPANET रखा गया |

जिसका काम लड़ाई के समय बिना किसी समस्या के गोपनीय सूचना भेजने व संचार व्यवस्था को सुरक्षित रखने के लिए किया गया | ARPANET दुनिया का ऐसा internet बन गया जिसमे TCPIP प्रोटोकॉल मतलब internet रूल को लागू किया गया |

TCP मतलब Transmission control protocol ऑर IP मतलब internet protocol जिसे आज हम सब IP address  के नाम से जानते है | फिर इन सब network को satellite से connect किया गया जिसकी वजह से आज दुनिया भर के network- inter connect network है | इसलिए इसका नाम inter networking रखा गया| inter networking को ही हम आज internet कहते है |

यह भी पढ़े –

internet विकशित होने की यात्रा-

  • 1961 में internet की योजना बनायीं गयी| यह वही समय था जब internet परिकल्पना से निकल कर हकीक़त में व्या हुआ |
  • 1967 में advance research project agency (ARPA) ने ARPANET बनाने के समबंध पर विचार किया गया|
  • 1968 में SRI (Standard Research of institute) में meeting होने के दोरान online meeting होने पर विचार किया गया |
  • 1969 में ARPA के scientist व engineer ने साथ मिलकर ARPANET को बनाया |
  • 3 जुलाई 1969 को university of california ने एक प्रेस की जिसमे लोगो के सामने internet के बारे में बताया |
  • internet के माध्यम से जो दुनिया का पहला massage भेजा गया वो  lo था | हुआ ये की massage भेजते वक़्त computer system बंद हो गया ऑर server को loding की जगह सिर्फ lo ही send हो पाया |
  • 1970 में internet protocol को Robert E.Kahn और Vint cerf ने साथ मिलकर काम किया |
  • Robert E.Kahn ने 1972 में एक event (समरोह)  में 30 computer को एक साथ एक ही network पर connect कर के सभी को हेरान कर दिया | इस कामयावी के बाद उन्होंने IP protocol पर ऑर भी अधिक काम किया |
  • Vint cerf अमेरिका के DARPA (डिफेन्स एडवांस रिसर्च प्रोजेक्ट एजेंसी) के Scientist थे जहा पर उन्होंने IP technology को बनाया
  • 1980 के दोरान ही ब्रिटिश कंप्यूटर साइंटिस्ट Tim Berners ने WWW (World wide web ) की खोज की (जो हर website के आगे होता है) तो internet की गति ऑर विकशित हुई |
  • 1990 में सबसे पहले search इंजन का नाम Archie Search engine था|
  • 27 september 1998 को  अमेरिकन scientist Larry Page ने अपने साथी Sergey Brin के साथ मिलकर Google search engine को बनाया | जिसने internet का रुख ही बदल कर रख दिया |

भारत में internet कब आया ?

  • भारत में internet 15 august 1995 को (VSNL) विदेश संचार निगम लिमिटेड के जरिये शुरु किया गया जो की सरकारी संस्था थी |
  • VSNL जो की internet के उपयोग की सुविधा उपलब्ध कराता था | internet को प्रयोग करने के लिए VSNL में एक खाता खोलना पड़ता था| अब यह सुविधा प्राइवेट कंपनीज जैसे reliance industries, airtel, आदि द्वारा उपलव्ध करायी जा रही है |
  • अप्रैल 2002 में आम लोगो के लिए internet खोलने का विचार किया गया |
  • 2004 में सरकार के द्वारा ब्रोडबैंड निति की घोषणा की गई | हम आपको बता दे ब्रोडबैंड के जरिये internet चलाया जाता है | इस ब्रोडबैंड को सरकार ने 256 kbps की न्यूनतम गति ऑर हमेशा connect रहना कहकर परिभाषित किया गया था |

उम्मीद करते है हम आप सभी को यह article काफी पसंद आया होगा | ऐसे ही technology के interested article सरल भाषा में आपको पढने को मिल जायेंगे पढ़ते जाईये और अपने ज्ञान को बढ़ाते जाईये | यह article पसंद आया हो तो कृपया share जरुर करे |

आप हर लाभकारी जानकारी को प्राप्त व दैनिक जीवन की उपयोगी पोस्ट पढने के लिए नीचे दिए join telegram बटन से जुड़े | जिससे हर पोस्ट आप तक पहुचे |

Join Telegram
Please share your friends

2 thoughts on “Internet क्या है? आख़िर इंटरनेट बनाया किसने ?”

Leave a Comment

error: Content is protected !!